Home > Archived > न नौकरी, न तालीम, लेकिन मरने-कटने के लिए हम हाजिर है - मुस्लिम मतदाता

न नौकरी, न तालीम, लेकिन मरने-कटने के लिए हम हाजिर है - मुस्लिम मतदाता

 Special Coverage News |  14 Feb 2017 2:13 PM GMT  |  New Delhi

न नौकरी, न तालीम, लेकिन मरने-कटने के लिए हम हाजिर है - मुस्लिम मतदाता

उत्तर प्रदेश में 400 सौ से ज़्यादा विधान सभा की सीट है। ओवैसी की पार्टी सिर्फ 40 सीटों पर लड़ रही है। #सपा_कांग्रेस का गठबंधन हो चुका है । मैं ये भी जानता हूं, ये गटबंधन सबसे बड़ी जीत हासिल करने जा रहा है । मैं ये भी जानता हूं, मुसलमानों का वोट इन दोनों पार्टियों को मिलेगा । मैं ये भी जानता हूं, इसके बाद भी मुसलमानों का कोई भला नहीं होने वाला। न नौकरी, न तालीम, लेकिन मरने-कटने के लिए हम हाजिर रहेंगे ।


लेकिन-- ये जो 40 सीट पर #MIM लड़ रही है न, अगर वो 10 सीट जीत कर भी विधानसभा पहुँच गई न, तो जो सेक्युलर सरकार तुम लोगों की बनेगी न, तो उन्हीं लोगों से लड़ कर, मुसलमानों, दलितों, और पिछड़ों को, तालीम, नौकरी, और उनकी सुरक्षा की गारंटी तुम्हारी सेक्युलर सरकार से लड़ कर ले लेगी। इस लिए दोस्तों, जहाँ जहाँ भी #मीम लड़ रही है, आप लोग दिलो जान से उसके उम्मीदवारों को जिताने की कोशिश करें।


क्यूँ कि यूपी में सरकार चाहे किसी की भी बनें, लेकिन #विधानसभा में आप की आवाज़ कोई नही उठा सकता। अब तक 67 मुस्लिम विधायक गूंगे बन कर विधानसभा में बैठे रहे। आज तक उन लोगों ने, आप लोगों के लिए क्या किया?

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top