Home > कौशाम्बी: शर्मशार हुई ममता, माँ बाप ने अपनी ही बेटी को ....

कौशाम्बी: शर्मशार हुई ममता, माँ बाप ने अपनी ही बेटी को ....

 शिव कुमार मिश्र |  2017-08-28 06:00:36.0

कौशाम्बी: शर्मशार हुई ममता, माँ बाप ने अपनी ही बेटी को ....

कौशाम्बी : माँ बाप अपने बच्चों की खुशी के लिए अपना सबकुछ लुटाने को तैयार रहते है लेकिन कौशांबी के एक माँ और पिता ने अपनी ही बेटी को कुछ पैसो के लिए पूरी जिंदगी के लिए दुखीकर दिया।मामला कौशम्बी के सरायअकिल थाना इलाके का है जहाँ एक कलयुगी माँ और पिता में अपनी ही बेटी को कुछ पैसो के लिए बेच दिया।आरोप है कि माँ बाप ने ही किशोरी को एक शादी-सुदा युवक को बेंच दिया। युवक ने किशोरी को पड़ोस के जनपद इलाहाबाद में रखकर अपने दोस्तों के साथ कई माह तक यौन शोषण किया। वहीं पुलिस इतने गंभीर मामले में भी आरोपी के खिलाफ कार्यवाही करने से कतरा रही है



कौशांबी में थाना सरांय अकिल इलाके की रहने वाली एक किशोरी को उसके माता-पिता ने ही एक शादी-सुदा युवक को बेंच दिया। युवक किशोरी को बहला फुसला कर रिस्तेदारी में ले जाने का भरोसा दिलाकर उसे अपने साथ लेकर इलाहाबाद पहुंचा, जहाँ एक एक ईट भट्टे पर किशोरी को रखा। आरोप है कि शादी सुदा युवक ने अपने दोस्तों के साथ कई माह तक किशोरी की इज्जत को तार-तार किया। यही नहीं गर्भवती होने पर किशोरी को दवा खिलाकर उसका गर्भपात भी कराया। दरिंदे युवक की चंगुल से सात माह बाद किसी तरह छूटकर किशोरी अपने गांव पहुंची। माँ बाप की नियत को भांप चुकी किशोरी ने रिस्तेदार एक महिला की मदद ली। महिला के साथ किशोरी सरांय अकिल पुलिस से न्याय की गुहार लगाई। आरोप है कि इतना सबकुछ होने के बाद भी न तो सरांय अकिल पुलिस ने किशोरी का मेडीकल कराया, और न ही अभी तक आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्यवाही की है।

सरांय अकिल पुलिस से इंसाफ के बदले दुत्कार मिलने के बाद पीड़ित किशोरी अपने रिस्तेदार महिला के साथ कौशांबी पुलिस कप्तान के दफ्तर पहुंची। पीड़ित किशोरी ने अपने ऊपर हुए सात माह तक वो जुल्मे सितम की सारी दास्तां एसपी अशोक कुमार पांडेय से बताई। आरोप है कि इंसाफ की कुर्सी पर बैठे पुलिस कप्तान ने पीड़ित किशोरी की फरियाद सुनने के बजाए न्याय का गला घोटते हुए उसे भला बुरा कह कर अपने दफ्तर से भगा दिया

पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार पांडेय से जब इस बाबत बातचीत की गई तो, कैमरे के सामने कुछ भी बोलने को तैयार नहीं थे। इतना ही नही कप्तान साहब मीडिया को ही नसीहत देने लगे। जब हमने सवाल किया कि एक पीड़ित किशोरी न्याय के लिए दर-दर की ठोकरे खा रही है तो एसपी साहब ने ऐसे किसी भी मामले की जानकारी से ही इंकार कर दिया। जबकि पीड़ित किशोरी और उसकी सहयोगी रिश्ते की महिला का आरोप है कि थाना सरांय अकिल पुलिस उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बना रही है। इस स्थिति के चलते पीड़िता और उसकी सहयोगी महिला काफी दहशत में है।
नितिन अग्रहरी

Tags:    
Share it
Top