Home > Archived > 27 रूपये रोजना में पौष्टिक आहार भत्ता खा कर तंदुरुस्त रहती है यूपी पुलिस और करती है आपकी सुरक्षा!

27 रूपये रोजना में पौष्टिक आहार भत्ता खा कर तंदुरुस्त रहती है यूपी पुलिस और करती है आपकी सुरक्षा!

 Special Coverage News |  15 Nov 2016 2:29 AM GMT  |  New Delhi

27 रूपये रोजना में पौष्टिक आहार भत्ता खा कर तंदुरुस्त रहती है यूपी पुलिस और करती है आपकी सुरक्षा!

लखनऊ दानिश खान: आज जो खबर हम प्रकाशित कर रहे हैं उसको पढ़ कर आप चौंक जायेंगे। जी हां, हम आज बात कर रहे हैं उत्तर प्रदेश पुलिस की। पुलिस से सभी लोगों को अपेक्षा होती है कि पुलिस कानून व्यवस्था को बेहतर रखे, लेकिन क्या आपको पता है कि उत्तर प्रदेश सरकार से पुलिस को दिए जाने वाले भत्ते में कितने रूपये किस चीज़ के लिए दिए जाते है ? नहीं न ! आइये हम आपको इसके बारे में बताते हैं।


आप ये जान कर हैरान हो जायेंगे कि उत्तर प्रदेश पुलिस में काम करने वाले कर्मचारी और अधिकारियों को 27 रूपये रोज का इस लिए दिया जाता है कि पुलिस उस पैसे से पौष्टिक आहार खाये। जी हां, मात्र 27 रूपये में दिन भर पौष्टिक आहार खा कर तंदरुस्त रहती है उत्तर प्रदेश पुलिस। और तो और ये 27 रूपये हाल ही में सरकार के द्वारा किये गए है, इससे पहले तो 26 रूपये में पौष्टिक आहार खा कर ही तंदुरस्त रहती थी उत्तर प्रदेश पुलिस। अब शासन ने पौष्टिक आहार भत्ता में 100 रुपया प्रति माह की बढ़ोतरी कर दी है, यानि पहले 750 रूपये प्रति माह पौष्टिक आहार भत्ता दिया जाता था, जो अब बढ़ कर 850 रूपये कर दिया गया है।


अब आप खुद सोच सकते है कि अगर पुलिस कर्मी सुबह का नाश्ता भी करेगा तो उसमें 40 से 50 रुपया ख़र्चा हो जायेगा, तो फिर 27 रूपये में दिन भर पौष्टिक आहार कैसे खा सकती है पुलिस ? आपको बता दें कि थानों में जो मेस (केंटीन) होती है पुलिस के खाने के लिए, उसमें भी 40 रूपये में एक समय का खाना मिलता है, तो ये पौष्टिक आहार भत्ता आखिर इतना कम क्यों दिया जाता है ?


आइये आपको पुलिस को मिलने वाले कुछ और भत्तों की जानकारी देते हैं :

कॉन्स्टेबल को आज भी साईकिल से चलने के लिए कागज़ी निर्देश है और उसके लिए कॉन्स्टेबल को साईकिल के रख-रखाव के लिए 35 रुपया प्रति माह दिया जाता है। दारोगा को 700 रुपया प्रति माह मोटर साइकिल के लिए पेट्रोल का पैसा मिलता है, यानि आज के दौर में 10 लीटर पेट्रोल ही दारोगा को गश्त करने के लिए मिलता है और उम्मीद की जाती है कि दारोगा के इलाके में अपराध नही होना चाहिए।

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top