Home > Archived > आतंकवाद और माओवाद के बहाने नोट बंदी से ध्यान भटकाने की कोशिश- रिहाई मंच

आतंकवाद और माओवाद के बहाने नोट बंदी से ध्यान भटकाने की कोशिश- रिहाई मंच

 Special Coverage News |  18 Nov 2016 2:35 AM GMT  |  New Delhi

आतंकवाद और माओवाद के बहाने नोट बंदी से ध्यान भटकाने की कोशिश- रिहाई मंच

लखनऊ: केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा डॉ जाकिर नायक के गैर सरकारी संगठन इस्लस्मिक रिसर्च फाउंडेशन पर प्रतिबन्ध लगाने का लिया गया फैसला भारतीय लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए रिहाई मंच ने इसका पुरजोर विरोध किया है।


रिहाई मंच लखनऊ महासचिव शकील कुरैशी ने कहा कि मोदी सरकार हिटलर के रास्ते पर चल रही है। ये सरकार संविधान द्वारा प्रदत्त किसी धर्म को मानने व उसके प्रचार व प्रसार के अधिकार पर सीधा हमला कर रही है। इस्लस्मिक रिसर्च फाउंडेशन की गतिविधियां विधि विरुद्ध हैं इस पर महाराष्ट्र सरकार व केंद्र सरकार ने कोई टिप्पड़ी नहीं की है और न ही ऐसे तथ्य एकत्र किए हैं जो विधि विरुद्ध क्रिया कलाप में आते हैं। बांग्लादेश में हुए आतंकी हमले के बाद ऐजेंशियों ने जाकिर नायक का नाम एक विचारक जिसके प्रभाव में उन लोगों ने वारदात की इस रूप में सामने लाया। लेकिन जाकिर नायक के किन विचारों से उत्तेजना फैली वो विचार सामने नहीं लाया।



उन्होंने कहा कि ठीक इसी तरह 2001 में अटल सरकार में सिमी को प्रतिबंधित किया गया बिना सबूतों के जिस पर से दो बार प्रतिबन्ध न्यायालय ने हटाया भी। सिमी के बहुत से लोग केसेस से बरी हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि सीकर से आईएसआईएस के नाम पर गिरफ्तारी या फिर नोटबंदी के फैसले को आतंकवाद और माओवाद से जोड़ा जा रहा है उससे साफ है कि जनता का ध्यान भटकाने के लिए फर्जी गिरफ्तारियों करा सकती हैं सुरक्षा व ख़ुफ़िया एजेंसियां।

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top