Top
Breaking News
Home > Archived > मोदी को अम्बानी-अडानी के बैंक बैलेंस की चिंता, रोहित और नजीब की मां की नहीं- मोहम्द शुऐब

मोदी को अम्बानी-अडानी के बैंक बैलेंस की चिंता, रोहित और नजीब की मां की नहीं- मोहम्द शुऐब

 Special Coverage News |  29 Nov 2016 3:34 PM GMT  |  New Delhi

मोदी को अम्बानी-अडानी के बैंक बैलेंस की चिंता, रोहित और नजीब की मां की नहीं- मोहम्द  शुऐब

रिहाई मंच लखीमपुर ने नजीब को वापस लाने और रोहित वेमुला के इंसाफ के लिये किला ग्रांउड मोहम्मदी में जनसभा कर तहसील तक मार्च निकालकर 7 सूत्री ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम सौंपा। जनसभा को सम्बोधित करते हुये रिहाई मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष एड0 शुऐब ने कहा कि जनता का ध्यान उसके मूलभूत मुद्दों से हटाने की राजनीति की जा रही है। मोदी सरकार अपने चहेते अडानी, अम्बानी, जिंदल को कितना लाभ पहुचा चुकी है लेकिन नजीब की मां के सवालों को हल करने का समय उनके पास नहीं है। काला धन के नाम पर नोटो की बंदी करने वाले मोदी को बताना चाहिए की उन्होने खुद अपने कपड़ों पर 70 करोड़ रू खर्च किये वह कहाँ से आये।


रिहाई मंच के महासचिव राजीव यादव ने कहा नजीब को किसने गायब कर दिया, रोहित वेमुला को इंसाफ क्यों नहीं मिला, ये सवाल तब तक उठते रहेंगे जब तक जवाब नहीं मिल जाता। क्योंकि ये सवाल सिर्फ दो इंसानों या परिवारों के सवाल नहीं है ये पूरे मुल्क और जम्हूरियत के सवाल हैं। अगर इनके जवाब सरकार नहीं दे पाती तो फिर उसे यह कहने का कोई हक नहीं है कि भारत एक लोकतांंित्रक देश है। उन्होंने कहा कि आज जब किसी नजीब की माँ को दिल्ली पुलिस इंसाफ मांगने पर घसीटती है या रोहित वेमुला की माँ को दरदर भटकना पड़ रहा है तो ऐसे में इन माँ, बहनो की लड़ाई में हम बेटो को मज़बूती से खड़ा होना पड़ेगा।


रिहाई मंच प्रवक्ता मो0 आसिफ (शीबू) ने कि जो दिल्ली पुलिस जेएनयू के छात्रों के पाकिस्तानी आतंकियों से सम्बंध होने की फर्जी खबरें चलवाती है वही दिल्ली पुलिस नजीब का पता लगाने में इतनी आलस क्यों दिखा रही है। क्या पुलिस का व्यवहार ऐसा सिर्फ इसलिए है कि नजीब मुसलमान है।


रिहाई मंच जिला अध्यक्ष मोनिस अंसारी ने कहा कि रिहाई मंच की इंसाफ की इस जंग को प्रतिकात्मक विरोध न माना जाए। नजीब का सवाल मोहम्मदी का भी सवाल है क्योंकि हमारे जैसे छोटे भाई यहां से उच्च शिक्षा के लिए जेएनयू और हैदराबाद विश्वविद्यालय में पढ़ने जा सकेें इसके लिए जरूरी है कि रोहित वेमुला के हत्यारों और नजीब को गायब करने वालों को सजा दी जाए। आज इस एतिहासिक किला ग्राउंड में इकठ्ठा होकर हमने ये संकेत दे दिया है कि जुल्म को जनता अब और बर्दाश्त नहीं करने जा रही है।

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it