Top
Breaking News
Home > Archived > देश में आर्थिक इमरजेंसी जैसे हालात पैदा हो गए, नोटबंदी से किसान, मजदूर, गरीब लोग ही दुखी- मायावती

देश में आर्थिक इमरजेंसी जैसे हालात पैदा हो गए, नोटबंदी से किसान, मजदूर, गरीब लोग ही दुखी- मायावती

 Special Coverage News |  3 Dec 2016 12:10 PM GMT  |  New Delhi

देश में आर्थिक इमरजेंसी जैसे हालात पैदा हो गए, नोटबंदी से किसान, मजदूर, गरीब लोग ही दुखी- मायावती

लखनऊ: बीएसपी प्रमुख मायावती अपने पार्टी कार्यालय 12 मॉल एवेन्यू में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रही है, उन्होंने कहा कि बीजेपी गलत बयानबाजी कर रही है। हमारी पार्टी कालेधन के खिलाफ है। नोटबंदी का फैसला सही तरीके से नहीं लिया गया। नोटबंदी को राजनीतिक स्वार्थ के लिए बिना तैयारी के लागू किया गया है।

उन्होंने कहा अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए मोदी सरकार ने नोटबंदी का अतिपीड़ादायी फैसला ले लिया। बीजेपी ने कई चुनावी वादे किए थे। बीजेपी में जनता से झूठे वादे किए थे, बीजेपी ने 100 दिनो मे कालाधन लाने का वादा किया था लेकिन ढाई साल हो गए पर कालाधन नहीं आया।

केंद्र की बीजेपी सरकार ने खुद की भारत बंद जैसी स्थिति बना दी है और अघोषित आपातकाल जैसा माहौल हो गया है। बीजेपी राजनैतिक स्वार्थ साधने की कोशिश में। गैर बीजेपी शासित राज्यों को कैश देने में भी भेदभाव किया जा रहा है। खुले आसमान के नीचे 90 प्रतिशत जनता लाइन में है, अपने ही पैसों के लिए जनता को लाइन लगाना पड़ रही। भ्रष्टाचार खत्म करने के मैने बहुत प्रयास किए। जनता की परेशानियों का बसपा सदन के अन्दर और बाहर विरोध कर रही है।

पीएम मोदी ने एक भी वादा पूरा नहीं किया, जनता के साथ पीएम मोदी ने विश्वासघात किया। पीएम मोदी अड़ियल रवैया अपनाएं हैं, बीजेपी हमपर गलत आरोप लगा रही है, बीएसपी मध्यम वर्गीय लोगों की पार्टी है, जनता के लिए बीएसपी कुछ भी कुर्बानी देने को तैयार है। देश में आर्थिक इमरजेंसी जैसे हालात पैदा हो गए है, किसान, मजदूर, गरीब लोग ही नोटबंदी से दुखी हैं।

उन्होंने कहा रोजगार न मिलने से लोग घर वापस लौट रहे, शादी वाले घरो के दुखो को बताना भी मुश्किल है, समस्याएं दूर करने के बजाए नाटकबाजी कर रहे है। पीएम ने भारत को कैशलेस बनाने का झूठा प्रचार किया, 90% जनता को पीएम ने कंगाल बना दिया, अपने पैसों के लिए ही लोग तरस रहे हैं। लाइन मे लगने के बाद भी लोगो को पैसा नहीं मिल रहा, नोटबंदी के चलते अबतक करीब 100 मौते हुई, केन्द्र सरकार ने कोई मुआवजा नही दिया।

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it