Home > Archived > में दलित जज हूँ कौन होता है सुप्रीमकोर्ट नोटिस देने वाला?

में दलित जज हूँ कौन होता है सुप्रीमकोर्ट नोटिस देने वाला?

 Special Coverage News |  12 Feb 2017 7:54 AM GMT  |  New Delhi

में दलित जज हूँ कौन होता है सुप्रीमकोर्ट नोटिस देने वाला?

कलकत्ता हाईकोर्ट के जस्टिस करनन की एक नई पहल आप जानकर हैरान हो जायेंगे। पहले उन्होंने अपने ट्रांसफर आदेश को मानने से इंकार कर दिया फिर किसी मामले पर सुप्रीम कोर्ट का निर्देश यह कहते हुए डस्टबिन में डाल दिया कि मेरे कार्यक्षेत्र में दखल देने वाला सुप्रीम कोर्ट कौन होता है। संविधान के अनुच्छेद- 124 से 147 तक सब गए भाड़ में।



उनकी इस क्रांतिकारिता का अब जब सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लेकर कंटेंप्ट नोटिस भेजा तो उन्हें याद आया कि हो तेरे की! मैं तो दलित हूं। मतलब सुप्रीम कोर्ट दलित विरोधी है। उनकी मांग है कि चुंकि वह दलित हैं इसलिए पहले चीफ जस्टिस खेहर को रिटायर करो तब उनके खिलाफ कोई कार्यवाही शुरु करो।

चंदन श्रीवास्तव

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top