Home > Archived > अखिलेश राज में लघु उद्योग बदहाल - डाॅ चन्द्रमोहन

अखिलेश राज में लघु उद्योग बदहाल - डाॅ चन्द्रमोहन

 शिव कुमार मिश्र |  2017-03-07T08:59:55+05:30  |  लखनऊ

अखिलेश राज में लघु उद्योग बदहाल - डाॅ चन्द्रमोहन

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी ने लघु उद्योगांे की बदहाली श्रमिकों की बदहाली के लिए अखिलेश सरकार के जिम्मेदार ठहराया। प्रदेश प्रवक्ता डाॅ0 चन्द्रमोहन ने कहा कि प्रदेश में लघु उद्योग सरकारी उपेक्षा से दम तोड़ रहे है और पीतल, ताला, कांच, फर्नीचर, जरदोजी जैसे लघु उद्योगों से जुडे लोग आर्थिक अभाव में कहीं और मजदूरी करने को विवश हैं। प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था भी औद्योगिक वातावरण को समाप्त कर रही है। मोदी जी वाराणसी में बुनकरों के लिए कलस्टर का शुभारम्भ कर लघु उद्योगो को मजबूत करने की सशक्त पहल की है।


डा चन्द्रमोहन ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने 25 हजार बुनकरों के लिए 32 करोड़ की लागत से कलस्टर की शुरूवात की इसके साथ ही उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में बुनकरों के लिए मात्र 10 प्रतिशत अंशदान के साथ कलस्टर प्रारम्भ के किये गए और हस्तशिल्पियों को निशुल्क प्रशिक्षण भी दिया गया। काशी में ही 213 करोड़ की लागत से इटीग्रेटेड ट्रेड फेशलिटेशन सेंटर का शुभारम्भ कर ठोस पहल की शुरूआत की गई।


डाॅ चन्द्रमोहन ने कहा कि केन्द्र सरकार की तरह ही यदि प्रदेश सरकार ने लघु उद्योग के पुनरोद्धार में पहल की होती तो मुरादाबाद का पीतल, फिरोबाबाद का चूडी, अलीगढ का ताला, बरेली का जरदोजी, मिर्जापुर का मूंगा मोती, जलेसर का घण्टे घडियाल के साथ पर्यटन उद्योग दम न तोड रहा होता। केन्द्र की योजनाओं में अखिलेश ने अड़ंगा न लगाया होता तो आज प्रदेश में लघु उद्योग और कुटीर उद्योग का आधारभूत ढांचा प्रदेश की अर्थव्यवथा की मजबूत कर रहा होता। डाॅ0 चन्द्रमोहन ने कहा कि अखिलेश यादव ने चाॅकलेटी विकास करके प्रदेश के विकास को अवरूद्व किया है। अखिलेश राज की भ्रष्ट व्यवस्था के कारनामों की जांच भाजपा सरकार में होगी। भाजपा सरकार बनते ही प्रदेश में औद्योगिक वातावरण तैयार किया जाएगा।

Tags:    
Share it
Top