Top
Begin typing your search...

मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल पर मायावती ने कसा तंज

मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल पर मायावती ने कसा तंज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मायावती ने कसा तंज

लखनऊ : बसपा सुप्रीमो मायावती ने केंद्र सरकार के तीन साल पूरे होने पर मोदी सरकार पर पिछले तीन वर्षो के शासनकाल में विरोधी पार्टियों व् न्यायपालिका सहित अन्य संबैधानिक संस्थाओ को अपना राजनितिक दुश्मन मानकर उनसे हर बात पर तकरार करते रहने का और अहंकारी रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब इस सरकार के चौथे वर्ष में देश के करोड़ो गरीब ,मजदूर ,किसान व् अन्य मेहनतकश लोग यह सोचने पर मजबूर है कि आखिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कि सरकार में उन्हें क्या मिला ?

मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मायावती ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार का स्वभाव है कि वह काम कम और बड़ी बड़ी बातें अधिक करते हुए सरकार के तीन वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में अकूत धन पानी की तरह बहाकर जनता को अपनी तथाकथित उपलब्धियों के सम्बन्ध में वरगलाने का प्रयास कर रही है .और इस मौके पर केंद्र की सरकार अपने आपको काफी बड़ा चढ़ा कर जनता के समक्ष पेश करने का प्रयास कर रही है .

परन्तु इनके पास जनता के इस प्रश्न का कोई सीधा ,साधारण व् विश्वसनीय जवाब नहीं है कि देश की अत्यंत ज्वलंत समस्याओं जैसे गरीबों कि गरीबी ,जानलेवा महंगाई ,बढ़ती हुई अशिक्षा ,बेरोजगारी व् साम्प्रदायिक व् जातीय हिंसा व् तनाव दूर करने के साथ साथ देश की आमजनता को सुख शांति व् समृद्धि का जीवन देने में यह सरकार क्यों बुरी तरह विफल साबित हुई है ?

बसपा सुप्रीमो ने जवानो के शहीद होने पर मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि सीमाएं इतनी अशांत और असुरक्षित क्यों है ?तथा हमारे बीर जवान इतनी ज्यादा संख्या में लगातार क्यों शहीद हो रहे है ? वास्तव में मोदी सरकार के तीन वर्ष के बारे में सही आकलन किया जाए तो यह साफ़ तौर पर पता चलता है कि देश के करोड़ो गरीबों ,मजदूरों ,किसानो ,बेरोजगारों छोटे व् मझोले व्यापारियों के साथ साथ दलितों ,आदिवासियों ,पिछडो ,धार्मिक अल्पसंख्यकों का जीवन और भी ज्यादा दुखी व् कष्टदायी हुआ है .

मायावती ने मोदी सरकार पर बोलते हुए कहा कि बीजेपी के नेता व् इनकी सरकार देश गरीबों ,मजदूरों ,किसानो व् आमजनता का लगातार वैसा ही क्रूर मजाक उड़ाती रहती है जिस प्रकार से जातिवादी लोग वोटों के स्वार्थ की खातिर दलितों के घर जाते तो जरूर है परन्तु वहां भी वे लोग पांच सितारा होटल का मंगाया हुआ महंगा खाना ही खाते है .और इस प्रकार से उनका और देश का मजाक उड़ाने का प्रयास करते है .जैसाकि अभी अभी कर्नाटक में बीजेपी के वरिष्ठ नेता येदियुरप्पा ने किया था .बीजेपी नेताओ व् मंत्रियों के इस प्रकार के जातिवादी रवैये व् ढोंगी दलित प्रेम की जितनी भी निंदा की जाए कम है .

मायावती ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी द्वारा अपने पैतृक संगठन आर .एस .एस. के नफरत व् विभाजनकारी एजेंडे पर चलकर दलितों ,आदिवासियों ,पिछडो व् धार्मिक अल्पसंख्यको आदि को हर प्रकार से निशाना बनाकर इनके खिलाफ खुलेआम काम करना इनका बीजेपी सरकार की निति बन गयी है . केंद्र सरकार अपने बहुमत के अहंकार में पूरी तरह डूबी नजर आ रही है .

इतना ही नहीं बल्कि उच्च संवैधानिक व् सरकारी पदों पर ऐसे भगवा तत्वों को मनोनीत किया गया है ,जो अपने पद की मर्यादा व् परम्पराओं की धज्जियां उड़ाने को ही पद की शोभा मानते है ,यह एक विचित्र स्थिति है जिस कारण लोगो में न्याय पाने की आशा लगातार घटती जा रही है जिसका नतीजा निश्चित तौर पर देशहित में अच्छा नहीं होने वाला है .
Next Story
Share it