Home > Archived > फिर किया इस जिलाधिकारी ने नया काम, लगाया EVM की सुरक्षा में लंगूरों को

फिर किया इस जिलाधिकारी ने नया काम, लगाया EVM की सुरक्षा में लंगूरों को

 Special Coverage News |  14 Feb 2017 9:52 AM GMT  |  मेरठ

फिर किया इस जिलाधिकारी ने नया काम, लगाया EVM की सुरक्षा में लंगूरों को

मेरठ: जिले में पहले चरण का मतदान मंगलवार को चौंकाने वाली तस्वीर सामने आई. जहां ईवीएम की सुरक्षा के लिए जहां कताई मिल में भारी मात्रा में फोर्स तैनात है तो वहीं लंगूर भी ईवीएम की सुरक्षा में लगाए गए हैं.दरअसल मतगणना स्थल के आसपास भारी तादाद में बंदर हैं. इन बंदरों से स्ट्रॉंग रुम को भी खतरा है.


लिहाज़ा ज़िला प्रशासन ने बिना देरी के यहां ईवीएम की सुरक्षा के लिए और बंदरों को दूर भगाने के लिए लंगूर तैनात कर दिए हैं.जहां दो लंगूर दिन रात बंदरों को भगाने में और ईवीएम की सुरक्षा में तैनात रहते हैं. ये बात और है कि यहां सेन्ट्रल पैरामिलिट्री फोर्स के जवान भी तैनात हैं.जो दिन रात चौबीस घंटे ईवीएम की सुरक्षा में तैनात रहते हैं. लेकिन वो भी बंदरों से त्रस्त नज़र आते हैं.इन सुरक्षा जवानों का कहना है कि सैकड़ों की संख्या में यहां पर बंदर हैं. जब तक लंगूर रहता है.



तब तक बंदर भागे रहते हैं लेकिन जैसे ही लंगूर दूसरी तरफ चला जाता है बंदरों की फौज न जाने कहां से आ जाती है.बंदूक लिए सुरक्षा के लिए तैनात ये जवान हर आफत का सामना करने के लिए मुस्तैद हैं, लेकिन बंदरों के आगे बेबस नज़र आते हैं. ये जवान रह रहकर सुरक्षा की बात करने पर बंदरों का जिक्र करने लगते हैं. सेन्ट्रल पैरा मिलिट्री फोर्स के इन जवानों का कहना है कि अगर स्ट्रॉंग रुम में बंदर दाखिल हो गए तो भारी तबाही मचा सकती हैं.


गौरतलब है कि मेरठ की सात विधानसभा सीटें मेरठ शहर, मेरठ दक्षिण, मेरठ कैंट, किठौर, सिवालख़ास, सरधना और हस्तिनापुर विधानसभा सीट के हज़ारों ई‌वीएम यहीं पर रखे गए हैं. डीएम ने बंदरों के आतंक को देखते हुए आनन फानन में लंगूर तो रख दिए हैं.लेकिन क्या ये समस्या का हल है.

Tags:    
Share it
Top