Top
Begin typing your search...

जम्मू एंड कश्मीर बैंक के बहिष्कार का ऐलान, मेरठ वासियों से खाते बंद करने की अपील!

जम्मू कश्मीर बेंक में ना रखें अपना खाता

जम्मू एंड कश्मीर बैंक के बहिष्कार का ऐलान, मेरठ वासियों से खाते बंद करने की अपील!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
मेरठ :कश्मीर में भारतीय सेना के ऊपर कश्मीरी छात्रों द्वारा रोजमर्रा की जा रही पत्थरबाजी से आक्रोशित कश्मीरी छात्रों के विरुद्ध NH58 पर होर्डिंग लगाने के आरोप में दर्ज हुए मुकदमे में 29 दिन बाद जमानत पर जेल से छूटने के बाद उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष अमित जानी ने अब जम्मू एंड कश्मीर बैंक पर अलगाववाद का आरोप लगाते हुए उत्तर प्रदेश में बैंक के बहिष्कार की घोषणा की है.

बैंक के खिलाफ पोस्टर जारी करते हुए अमित जानी ने उत्तर प्रदेश के लोगो से जम्मू एंड कश्मीर बैंक से अपने खाते बंद कराने की अपील की है. अमित जानी ने सूरजकुंड रोड स्तिथ एक होटल में प्रेस वार्ता करते हुए कहा कि राष्ट्रवाद के मुद्दे पे सरकार बनाने वाले देश के गृह मंत्री कश्मीर के पत्थर बाजो के सामने घुटने टेक कर बैठ गए है. भारतीय सेना को पत्थर , लात, थप्पड़ खाते देख पूरा देश आक्रोशित है लेकिन राजनाथ सिंह जी निंदा निंदा कहकर, अपनी ड्यूटी पूरी कर लेते है.

मेरठ में कश्मीरी छात्रों ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए थे, जिसमे 66 कश्मीरी छात्रों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हुआ था. देश के गृह मंत्री तब ज़रा भी चिंतित नही हुए. उन छात्रों की न तो गिरफ्तारी हुई न ही आगे केस में चार्जशीट लगी. पाकिस्तान जिंदाबाद कहने वाले वे सभी छात्र जेल तो दूर थाने के लाकअप तक में बंद नही हु. जबकि मेरे द्वारा उसी यूनिवर्सिटी के सामने अलगावादी कश्मीरी छात्रों के विरुद्ध होर्डिंग लगाए जाने पर गृहमंत्री जी द्वारा मुझे जेल में डालने का आदेश दे दिया गया.


अमित जानी ने कहा कि जैसे अखिलेश यादव का छदम समाजवाद , मायावती का छदम अम्बेडकरवाद लोग समझ चुके है. इसी प्रकार राजनाथ सिंह जी का छदम राष्ट्रवाद भी धीरे धीरे लोगो की समझ मे आने लगा है. उनके विरुद्ध मुकदमा कायम करके सही और सच बात को दबाने की कोशिश की गई. ताकि जेल जाने के बाद हम अपनी जबान पर ताला लगा ले. लेकिन हम राष्ट्र के मुद्दे पर हमेशा मुखर होकर अपनी बात रखेंगे.


अमित जानी ने जम्मू एंड कश्मीर बैंक पर गैर कश्मीरियो से नौकरी में भेदभाव और अलगववाद का आरोप लगाया.उन्होंने कहा कि देश के किसी बैंक में देश का कोई भी नागरिक नौकरी कर सकता है जबकि जम्मू एंड कश्मीर बैंक में सिर्फ वही जॉब पा सकता है जो जम्मू एंड कश्मीर का हो. जम्मू एंड कश्मीर बैंक गैर कश्मीरियो से व्यापार तो करता है. मुनाफा तो कमाता है किंतु उनको जॉब नही देता. अनुच्छेद 370 की तरह इस नीति का उत्तर प्रदेश के लोग विरोध करेंगे.

बैंक के खिलाफ पोस्टर जारी करते हुए अमित जानी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में व्यापार कर रहे इस बैंक की समस्त शाखाओं पर हमने बहिष्कार का यह पोस्टर चस्पा कर दिया है. उत्तर प्रदेश के हजारो खाता धारकों से अपील के जरिये हमने खाता बंद करने का अनुरोध किया है, जल्दी ही हजारो लोग इस बैंक से अपने खाते और लेनदेन बंद करेंगे. उत्तर प्रदेश के लोगो से अपील की गई है यह बैंक जब तक उत्तर प्रदेश सहित देश के अन्य लोगो को अपने बैंक में जॉब नही देता तब तक बैंक से व्यापार पुर्णतः बंद करे तथा इसका बहिष्कार करे.




































शिव कुमार मिश्र
Next Story
Share it