Home > बैंक के बाहर वो कतार लगाए है जो इमानदार, बेईमान लोग तो गरीबों के घर पर कतार लगाएं है- PM मोदी

बैंक के बाहर वो कतार लगाए है जो इमानदार, बेईमान लोग तो गरीबों के घर पर कतार लगाएं है- PM मोदी

 Special Coverage News |  2016-12-03 11:37:29.0  |  New Delhi

बैंक के बाहर वो कतार लगाए है जो इमानदार, बेईमान लोग तो गरीबों के घर पर कतार लगाएं है- PM मोदी

मुरादाबाद: उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा की परिवर्तन रैली को संबोधित किये। रैली में पीएम मोदी ने सभी को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा अपनों का विकास करने से राज्य का भला नहीं होगा, अपनों के लिए करने वाली सरकारे बहुत आई। आपके लिए काम करने वाली केवल बीजेपी है, क्या इस देश को भ्रष्टाचार ने लूटा नही, सभी मुसीबतो की जड़ मे भ्रष्टाचार है। भ्रष्टाचार को खत्म करने की जरूरत है, भ्रष्टाचार को डंडा लेकर निकालना पड़ेगा।

उन्होंने कहा पहले जो लोग मनी-मनी किया करते थे, वे अब मोदी-मोदी किया करते हैं। कांग्रेस ने 70 साल लोगों को कतार में खड़ा किया। मैंने कतारों को खत्म करने के लिए आखिरी कतार लगाई है। जो काम 70 साल में नहीं हुआ, करने में तकलीफ तो होगी, काम करने वालों के इरादों में भी खोट थी। मेरे ही देश में कुछ लोग मुझे गुनहगार कह रहे, भ्रष्टाचारियों के दिन बुरे होना क्या मेरा गुनाह है? रेड में बिस्तर के नीचे से करोड़ों रुपए मिलते थे, भारत की पाई-पाई पर देशवासियों का अधिकार है।

पीएम ने कहा 50 दिन परेशानी रहेगी मैने आपसे कहा था, मै देश के नागरिकों को सलाम करता हूं, कभी चीनी के लिए भी तो कतार में लगते थे। गेहूं, तेल के लिए भी तो कतार में लगना पड़ता था, उन कतारों को खत्म करने को आखिरी कतार लगाई है मैने। बैंक के बाहर वो कतार लगाए है जो इमानदार, बेईमान लोग तो गरीबों के घर पर कतार लगाएं है।

PM ने कहा पहले गरीबों को बैंक तक जाने का मौका नहीं मिला था, मैने कहा मैं गरीबों का बैंक में सबसे पहले खाता खुलवाऊंगा। अब बड़े-बड़े लोग जेब में प्लास्टिक करेंसी रखते हैं, 20 करोड़ लोगों को 'रुपए कार्ड' दे दिया। नोटे छप रही थी, लेकिन कहां जा रही थी, कुछ लोग तो गरीबो के जाकर पैर पकड़ते है, गरीबो की खुशामत कर रहे हैं अमीर लोग। कभी किसी अमीर को गरीब के पैरों पर गिरे देखा था, अमीरों की बैंकों में कतार लगाने की ताकत नहीं है।

उन्होंने कहा गरीब बैंकों से पैसे निकाले नहीं, अमीर आप लोगों के घर के चक्कर काटेंगे, उन्हे कहो कि ज्यादा बोले तो पीएम को पत्र लिखता हूं। जनधन अकाउंट वाले लोग पैसे मत निकालना, अगर अकाउंट में पैसे पड़े रहे तो मैं कोई रास्ता निकालूंगा। जिसका पैसा है वो जेल जाए, और पैसा गरीब को मिले, देश का सामान्य नागरिक बेईमानी से तंग आ चुका है।

उन्होंने कहा गरीब आदमी कालेधन का खेल नहीं चाहता है, ये देश ईमानदारी चाहता है, ईमानदारी की लड़ाई को देशवासियों को जीतना है। देश को आगे ले जाने में कोई कसर नहीं छोड़ूंगा। भारतवाले नई चीज को स्वीकार करने में देर नहीं लगाते, मेरा देश परिवर्तन को स्वीकार करने वाला देश है।

Share it
Top