Home > Archived > उत्तराखंड में चुनाव के बाद हलचल तेज, सभी बड़े नेता दिल्ली तलब

उत्तराखंड में चुनाव के बाद हलचल तेज, सभी बड़े नेता दिल्ली तलब

 Special Coverage News |  2017-02-17T12:56:45+05:30  |  New Delhi

उत्तराखंड में चुनाव के बाद हलचल तेज, सभी बड़े नेता दिल्ली तलब

देहरादून: उत्तराखंड में मतदान ज्यादा होने से दोनों दलों में बेचैनी है। सूबे में कांग्रेस और बीजेपी की आमने सामने की लड़ाई है। अब चूँकि कांग्रेस में तो सीएम का चेहरा लगभग फाइनल है लेकिन बीजेपी में अब सीएम पद को लेकर कसरत शुरू हो गई है। इस लिहाज से बीजेपी के सभी वरिष्ठ नेता दिल्ली तलब किये गए है ताकि समय से पहले सीएम का नाम भी फ़ाइनल हो जाये।


सूत्रों के अनुसार मतदान संपन्न होते ही भाजपा राष्ट्रीय नेतृत्व ने पार्टी के कई दिग्गज नेताओं को दिल्ली दरबार में तलब किया है। बीसी खंडूड़ी, सतपाल महाराज, विजय बहुगुणा, रमेश पोखरियाल निशंक, त्रिवेंद्र सिंह रावत और अजय भट्ट के दिल्ली रवाना होने की चर्चाएं हैं।


कांग्रेस की बात करें तो मुख्यमंत्री पद को लेकर पार्टी में कोई संशय नहीं है। दूसरी तरफ भाजपा की बात करें तो उसने चुनाव में किसी भी नेता को बतौर मुख्यमंत्री पोजक्ट नहीं किया। ऐसे में पूर्ण बहुमत के दावे के बीच भाजपा के बड़े-बड़े नेताओं की नजर मुख्यमंत्री की कुर्सी पर टिकी है। इसके लिए उन्होंने सामने से और पर्दे के पीछे से भी भूमिका तैयार करना शुरू कर दिया है। पार्टी हाईकमान ने भी सीएम उम्मीदवार के लिए कसरत तेज कर दी है।


चूंकि भाजपा में मुख्यमंत्री बनने को लेकर नेताओं के बीच मारामारी है, इसलिए राष्ट्रीय नेतृत्व चुनाव परिणाम आने से पहले ही आंतरिक तौर पर सीएम के नाम पर मुहर लगाने के मूड में है, ताकि बाद में किसी तरह के विवाद की स्थिति पैदा न हो। इसी के दृष्टिगत सतपाल महाराज और त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत कई अन्य नेता देर रात्रि को दिल्ली रवाना हो गया है। दिल्ली में चुनाव आंकलन के साथ ही सीएम पद पर एक राय को लेकर भी चर्चा होने की संभावना जताई जा रही है।


भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि वह मुख्यमंत्री की दौड़ में नहीं है। कहा कि भाजपा में दौड़ लगाने से कुछ नहीं होता। हाईकमान जो निर्णय लेता है वह सर्वमान्य होता है। लेकिन पार्टी शीर्ष नेतृत्व उन्हें जो जिम्मेदारी देगा उसका वह बखूबी बगैर किसी स्वास्थ के निर्वहन करेंगे। जहां तक दिल्ली जाने सवाल है इसमें कोई बुराई नहीं है। पार्टी हाईकमान सभी से फीडबैक लेती है।

Share it
Top