Top
Breaking News
Home > Archived > लड़कियों को सिखायेआत्मरक्षा के गुर, महिलाआयोग अध्यक्षव SSPपौड़ी ने किया उद्घाटन

लड़कियों को सिखायेआत्मरक्षा के गुर, महिलाआयोग अध्यक्षव SSPपौड़ी ने किया उद्घाटन

 Special Coverage News |  1 Sep 2016 11:48 AM GMT  |  ऋषिकेश

लड़कियों को सिखायेआत्मरक्षा के गुर, महिलाआयोग अध्यक्षव SSPपौड़ी ने किया उद्घाटन

ऋषिकेश
परमार्थ निकेतन परिसर में पांच दिवसीय महिला आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर का आज विधिवत् श्रीगणेश दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। शिविर का उद्घाटन उत्तराखण्ड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष (कैबिनेट मंत्री स्तर) श्रीमती सरोजनी कैंतुरा तथा एसएसपी पौड़ी निवेदिता कुकरेती ने किया। इस अवसर पर नगर पंचायत स्वर्गाश्रम-जौंक की अध्यक्षा शकुन्तला राजपूत एवं राज्य महिला आयोग की सदस्य सचिव रमिन्द्री मंद्रवाल, कांग्रेस व्यापार प्रकोष्ठ के राज्य संयोजक इन्द्र प्रकाश अग्रवाल एवं परमार्थ निकेतन के निदेशक राम महेश मिश्र भी मौजूद रहे। प्रशिक्षण शिविर में 180 लड़कियां एवं महिलायें प्रतिभाग कर रही हैं। उद््घाटन सत्र में जिला पुलिस पौड़ी द्वारा विकसित आत्म सुरक्षा प्रशिक्षण दल के 10 सदस्यीय पुलिस बल ने कई रोमांचक प्रदर्शन प्रस्तुत किये।


थानाध्यक्ष लक्ष्मणझूला अमरजीत सिंह के समन्वयन में आरम्भ हुए पांच दिवसीय महिला आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर की विधिवत् शुरुआत परमार्थ निकेतन के योग हाॅल में आज पूर्वाहनकाल हुई। उद्घाटन करने के बाद उत्तराखण्ड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष सरोजनी कैंतुरा ने कहा कि वह माता-पिता सौभाग्यशाली होते हैं जिनकी बेटियां होती हैं। लड़कियों को हर क्षेत्र में ऊँचे पदों तक पहुंचने की प्रेरणा देते हुए उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड भारतवर्ष का भाल है, यहां की प्रतिष्ठा को बढ़ाने में नारी शक्ति का योगदान सर्वाधिक है। श्रीमती कैन्तुरा ने घोषणा की कि प्रदेश की कन्याओं एवं महिलाओं को घर से बाहर तक मजबूत बनाने के समस्त प्रयास आयोग द्वारा किए जायेंगे तथा उन्हें इस तरह के आत्मरक्षा प्रशिक्षण दिलाये जायेंगे। इस हेतु विभिन्न जिलों में प्रशिक्षण शिविर आयोजित किए जायेंगे।


वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पौड़ी-गढ़वाल सुश्री निवेदिता कुकरेती ने छात्राओं व महिलाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि जिला पुलिस ने राज्य महिला आयोग के सहयोग से नारी समुदाय को इस तरह के प्रशिक्षण बड़ी संख्या में दिलाने का संकल्प लिया है। उन्होंने कहा कि वह दिन लद गए जब महिला को अबला कहा जाता था। नारी सबला है और वह अपने बल का प्रदर्शन अनेक रूपों में कर रही है। उन्होंने अत्याचार बहने को अत्याचार करने से ज्यादा घातक बताया। एसएसपी ने कहा कि घर हो या परिवार, समाज हो या देष, सभी के उत्थान के लिए महिलाओं व कन्याओं का आत्मोत्थान और आत्मरक्षा बहुत जरूरी है। उन्होंने जनपद के विभिन्न अंचलों से आयीं छात्राओं व महिलाओं का अभिनन्दन किया तथा षिविर के आयोजन में सहयोग के लिए परमार्थ निकेतन परिवार की सराहना की। उद्घाटन सत्र में राज्य महिला आयोग की सदस्य रमिन्द्री मंद्रवाल एवं नगर पंचायत अध्यक्ष शकुन्तला राजपूत ने भी विचार व्यक्त किए।


कार्यक्रम में स्वर्गाश्रम-ऋषिकेश के कई सम्भ्रांत व्यक्तियों ने भी भाग लिया। व्यापार मण्डल के अध्यक्ष नारायण सिंह रावत, सभासद गजेन्द्र नागर, मनीष राजपूत, आदेश तोमर, स्वर्गाश्रम भाजपा मण्डल के अध्यक्ष भरत लाल, बीस सूत्रीय क्रियान्वयन समिति पौड़ी के उपाध्यक्ष माधव अग्रवाल आदि सम्मिलित थे। राजकीय इण्टर काॅलेज लक्ष्मणझूला के छात्र राहुल नेगी की योग प्रस्तुतियों की सभी ने सराहना की। महिला आयोग अध्यक्ष एवं नगर पंचायत अध्यक्ष ने उन्हें नगर पुरस्कार दिया तथा एसएसपी ने बुके भेंटकर राहुल का अभिनन्दन किया। इस अवसर पर गंगा में डूबने के दो व्यक्तियों को बचाने वाले आदेश तोमर तथा आपदा प्रबन्धन में महती भूमिका निभाने वाले देवेन्द्र राणा को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन परमार्थ निकेतन के निदेशक राम महेश मिश्र एवं एसएसपी की सहायिका अंजू तोमर ने किया। आज विभिन्न सत्रों में छात्राओं को आत्मरक्षा के विभिन्न तरीके सिखलाये गए।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it