Top
Begin typing your search...

नेताजी की अस्थियों की DNA जाँच की जाये - अनीता बोस

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
anita bos

नई दिल्लीः नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी डॉ. अनीता बोस फाफ यह तो मानती हैं कि 1945 की ताइपे विमान दुर्घटना में उनके पिता की मौत हुई होगी। लेकिन जापान के रेंकोजी बौद्ध मंदिर में रखी नेताजी की अस्थियों की असलियत पर उन्हें पक्का भरोसा नहीं है। इस कारण जर्मन अर्थशास्त्री अनीता बोस चाहती हैं कि रेंकोजी मंदिर में रखी उनकी पिता की अस्थियों की डीएनए जांच कराई जाए ताकि यह साबित हो सके कि उक्त अस्थियां वास्तव में उनके पिता सुभाष चंद्र बोस की ही हैं।

जर्मनी के स्टॉटबर्जेन शहर स्थित अपने आवास से प्रेट्र को दिए एक साक्षात्कार में उन्होंने उपरोक्त बातें कहीं। बकौल अनीता, डीएनए जांच से पक्का सुबूत मिल जाएगा। बशर्ते विमान दुर्घटना में बुरी तरह से जलने के कारण हड्डियों में डीएनए अवशेष बचे हों। नेताजी के पारिवारिक सूत्रों का भी कहना है कि अनीता बोस अगले महीने भारत आ सकती हैं। बहुत उम्मीद है कि अपने प्रवास के दौरान वह इस बारे में सरकार से विधिवत आग्रह करें। सूत्रों के अनुसार अनीता बोस पीएम नरेंद्र मोदी से कह सकती हैं कि वह रेंकोजी मंदिर में रखी नेताजी की अस्थियों की डीएनए जांच के लिए जापान सरकार से आग्रह करें।

सरकार नहीं लोगों के दिलों में बसे हैं नेताजी
उनसे जब यह पूछा गया कि भारत में जिस तरह का सम्मान महात्मा गांधी और जवाहर लाल नेहरू को मिला, वैसा उनके पिता को हासिल नहीं हुआ। इस पर अनीता बोस का जवाब था, "निश्चित तौर पर ऐसा लगता है कि सरकार ने इस तरह का व्यवहार किया। लेकिन आम लोगों ने उनकी याद को अपने दिल में जिंदा रखा है। नेताजी लोगों के दिल में बसे हैं।

आइएनए जवानों से व्यवहार शर्मनाक रहा
वह बोलीं "भारत सरकार ने आजाद हिंद फौज (आइएनए) के जवानों से जैसा व्यवहार किया, वह बेहद शर्मनाक रहा।" नेताजी के बारे में नेहरू की धारणा के बारे में पूछे जाने पर अनीता बोस फाफ ने कहा, "दोनों के बीच वर्षों का संबंध रहा है, जो बहुआयामी कहा जा सकता है। कई मामलों में दोनों का विचार समान था, लेकिन अन्य कई मुद्दों पर उनमें मतभेद भी था।

फाइलों के सार्वजनिक होने से खुश
अपने पिता से जुड़ी फाइलों के सार्वजनिक होने से अनिता बोस खुश हैं। गोपनीय फाइलों के केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा सार्वजनिक करने पर उनकी प्रतिक्रिया पूछे जाने पर उनका कहना था,बेहद खुश हूं। अनीता बोस के अनुसार, इन फाइलों को पहले ही सार्वजनिक कर दिया जाना चाहिए। मुझे नहीं लगता कि इनके सार्वजनिक होने से मेरे पिता की मौत के बारे में कोई खास जानकारी उजागर होने जा रही है।

अनीता बोस : जीवन परिचय
अनीता बोस फाफ का जन्म नवंबर, 1942 में वियना में हुआ। वह नेताजी सुभाष चंद्र बोस और उनकी ऑस्ट्रियन पत्नी एमिली शेंकल की एकमात्र संतान हैं। वह जब बहुत छोटी थीं तभी विमान दुर्घटना में नेताजी के मरने की खबर आई थी। वह ओंग्सबर्ग यूनिवर्सिटी में अर्थशास्त्र की प्रोफेसर रह चुकी हैं। इस समय वह अपने पति मार्टिन फाफ के साथ उनकी जर्मन सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी में सक्रिय रहती हैं। उनके बेटे का नाम पीटर अरुण और बेटियों के नाम थामस कृष्ण व माया कैरीन है।
साभार दैनिक जागरण
Special News Coverage
Next Story
Share it