Home > Archived > दलित विरोधी सरकार दलितों पर अत्याचार कर रही है - मायावती

दलित विरोधी सरकार दलितों पर अत्याचार कर रही है - मायावती

 Special News Coverage |  24 Feb 2016 6:17 AM GMT

mayawatiदलित विरोधी सरकार दलितों पर अत्याचार कर रही है - मायावती
नई दिल्ली
बसपा सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने बुधवार को देश के मौजूदा हालात पर राज्यसभा में केंद्र सरकार को जमकर निशाने पर लिया। उन्होंने रोहित वेमुला और जेएनयू का मुद्दा उठाया और कहा कि पूरे देश में दलित छात्रों का उत्पीड़न और शोषण हो रहा है। केंद्र सरकार दलित उत्पीडन पर चुप क्यों हो जाती है। जबकि दलित समाज के लोंगों के वोट के लिए कुछ भी करने को तैयार है।


हंगामा बढ़ा तो कार्रवाई 10 मिनट के लिए स्थगित


उन्होंने सरकार के लचर रवैये पर भी नाराजगी जताई। मायावती अपने निर्धारित समय से ज्यादा बोलती रहीं, सभापति के कहने के बावजूद भी वह रुकी नहीं। इसी दौरान बीएसपी सांसदों ने केंद्र सरकार और आरएसएस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। मायावती ने केंद्र सरकार से रोहित वेमुला मामले में जवाब मांगा। हंगामा बढ़ा तो राज्यसभा की कार्रवाई 10 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई।


केंद्र सरकार और विपक्ष जेएनयू विवाद को लेकर बुधवार को राज्यसभा में बजट सत्र के दौरान पहली बार आमने-सामने हैं। राज्यसभा में दो बजे जेएनयू का मुद्दा उठाया जाएगा। सीपीएम के नेता सीतीराम येचुरी राज्यसभा में जेएनयू मुद्दे पर बहस की शुरुआत करेंगे। जबकि बीजेपी की तरफ से पहले वक्ता भूपेंद्र यादव होंगे। गृह मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सरकार की ओर से जवाब देंगे।

सूत्रों के मुताबिक, सत्तापक्ष और विपक्ष के सदस्यों की मांगों के बाद कार्यमंत्रणा समिति की एक बैठक में मंगलवार को यह फैसला लिया गया कि मुद्दे पर चर्चा की जाएगी। बीजेपी सांसद भूपेंद्र यादव ने जेएनयू विवाद और साथ ही डेविड हेडली की पेशी पर चर्चा के लिए नोटिस दिया है। डेविड हेडली ने अपनी गवाही में कहा था कि इशरत जहां एक आतंकी थी। बीजेपी सांसद विजय गोयल ने भी चर्चा के लिए नोटिस दिया है।


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top