Top
Home > Archived > चार राज्यों में बनेगी किसकी सरकार जानें?

चार राज्यों में बनेगी किसकी सरकार जानें?

 Special News Coverage |  19 Dec 2015 8:36 AM GMT

kerala tamil nadu  West Bengal punjab Map
नरेन्द्र नाथ
नई दिल्लीः अगले कुछ महीने में कई राज्यों में चुनाव होने वाले हैं। चुनाव से पहले ही उन राज्यों के नतीजे "राइटिंग ऑन दि वॉल" की तरह दिख रहा है। असम में बीजेपी कांग्रेस को हराकर पॉवर में आएगी। तमिलनाडू में जया और पश्चिम बंगाल में ममता दीदी जीतेगी। पंजाब में आप या कोंगेस जीतेगी। केरल में लेफ्ट कांग्रेस से सत्ता लेगी।


इस परिणाम का ट्रेंड देखये। जहां बीजेपी को कांग्रेस से सीधा लड़ना होगा,वहां अभी कुछ सालों तक वह कांग्रेस को आराम से हराएगी। लेकिन जहां तीसरो कोण या लेफ्ट जैसी तीसरी ताकत की इंट्री होगी कांग्रेस की तरह बीजेपी दोनों बैकफुट पर नजर आने लगती है। क्या है यह ट्रेंड?



यह सिर्फ भारत नहीं पूरे विश्व का राजनीतिक ट्रेंड है। एक्सट्रीम राईट या लेफ्ट व्यू वाली राजनीति के उभरने का टाइम है। "राष्ट्रवाद" के नाम पर राजनीति करने का "राईटविंग" एप्रोच या "गरीब-वंचितों" के नाम पर राजनीति करने वाले एक्सट्रीम "लेफ्ट" आगे बढ़ रहे हैं। एक धारा "देश नहीं झुकने दूंगा", "देश के लिए मर मिटेंगे" और "देश-धर्म ही सबकुछ है" का समां बांधकर लोगों को पोलराइज कर रहा है तो दूसरा अमीर-गरीब के बीच बड़ी दीवार खड़ रहा और गरीबों के साथ खड़ा दिखने की राजनीति कर रहा है। ठेठ शब्दों में राईटविंग नाक और लेफ्टविंग वाले पेट को सामने लाते हैं। दोनों एक दूसरे से लड़ते हैं। दोनों बहुत हद तक सफल भी हो रहे हैं। इनमें कांग्रेस जैसे सेंट्रल फोर्स अभी खेल से बाहर दिख रही है। अभी पूरे विश्व में कांग्रेस या ऐसी धारा की राजनीति वालों का सबसे खराब समय चल रहा है। वे अस्त्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं।


भारत में नरेन्द्र मोदी हों या जापान में शिंजे अबे या इंगलैंड में डेविड कैमरन हो या अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप,राष्ट्रवादी एप्रोच को सेंटर थीम बनाकर ये नेता न सिर्फ लोकप्रिय हुए बल्कि चुनावी जीत भी हासिल की या जीतते दिख रहे हैं।

लेकिन इसी बीच अरविन्द केजरीवाल की लेफ्ट सोच वाली राजनीति के भी फॉलोअर बढ़ते दिखे। अचानक देश में लेफ्ट के झंडे फिर दिखने लगे। बिहार से केरल तक ,सालों से सोयी लेफ्ट विंग अचानक जग सी गयी। ग्रीस में मंदी लाने वाले और इकोनोमी को तबाह करने वाले लेफ्ट नेता एलेक्सिस सिप्रास लगातार जीत रहे हैं। इंगलैंड में इतिहास में सबसे कट्टर लेफ्ट सोच माने जाने वाले लेबर नेता के रूप में जेरेमी कोर्बिन की टीआरपी लगातार बढ़ रही है। चंद देश को छोड़ दीजिये तो आपको राजनीति का यही ट्रेंड दिखेगा। बीजेपी का बढ़ना,आप का बढ़ना,लेफ्ट के फिर से उभरने या कांग्रेस जैसी सेंट्रल थीम वाली राजनीति हाशिये पर जाना ग्लोबल राजनीति का ट्रेंड है। देश के लोगा भी उसे फॉलो कर रहे हैं। यह भी फैक्ट है कि जब राजनीति दो एक्सट्रीम धूरी के इस तरह आमने-सामने आते हैं तो आक्रामक और हाई वोल्टेज संघर्ष होता है। कई होनी-अनहोनी भी होती है। इसके लिए भी तैयार रहें। यह ग्लोबल राजनीति का संक्रमण काल है। भारत भी इस दौर से गुजर रहा है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it