Top
Begin typing your search...

महाराष्ट्र निकाय चुनाव: BJP की करारी हार के साथ चौथे नंबर पर, कांग्रेस सबसे आगे

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

congress-celebrations_
मुंबईः लगातार चुनावों में मिल रही हार से बीजेपी को कहीं से अच्छे समाचार नहीं मिल रहे है। आज महाराष्ट्र चुनाव में भी बीजेपी करारी हार के साथ चौथे नंबर पर है, बीजेपी को राहत भरी खबर नहीं मिली जबकि कांग्रेस के दुर्दिन ख़त्म होते नजर आ रहे है। लगातार जीत की खबर से कांग्रेस खेमे में खुशियाँ बरकरार है और कांग्रेस सबसे आगे। बहीं शिवसेना का भी जनाधार खिसकता नजर आरहा है।


मध्य प्रदेश के बाद महाराष्ट्र निकाय चुनाव में भाजपा को करारा झटका लगा है। कांग्रेस ने निकाय चुनाव में शानदार प्रदर्शन करते हुए भाजपा के साथ-साथ उसकी सहयोगी शिवसेना को शिकस्त दी है। 289 नगर पंचायत सीटों में से कांग्रेस ने 107 सीटों पर जीत हासिल की है। इसके बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) का नंबर है। जिसने 58 सीटों पर कब्जा जमाया। जबकि शिवसेना तीसरे और भाजपा चौथे स्थान पर रही। शिवसेना को 55 सीटें वहीं भाजपा को 24 सीटें आयी हैं।

नगर पंचायत और नगर परिषद
नगर पंचायत और नगर परिषद के ये चुनाव रत्नागिरी, रायगढ़, जलगांव, ननदरबार, अहमदनगर, नासिक, नांदेड़, लातूर, ओस्मानाबाद, हिंगोली, वाशिम, वरधा, भंडारा और चंद्रपुर जिले में हुए। इसके साथ-साथ पिंपरी-चिंचवाड़, अहमदनगर, नवी मुंबई और वृहन्मुंबई नगर परिषद के उप-चुनाव भी आयोजित किये गये।

पक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा
विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा, ‘ परिणाम दिखाते हैं कि कांग्रेस के प्रति लोगों का विश्वास लौट आया है और उनका भाजपा के शासन से मोहभंग हो गया है।’ ये परिणाम कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी की मुंबई यात्रा से पहले आए हैं। राहुल गांधी 15 और 16 जनवरी को मुंबई के दौरे पर आएंगे।

राकांपा के धनंजय मुंडे ने कहा
विधान परिषद में विपक्ष के नेता राकांपा के धनंजय मुंडे ने कहा, ‘ ये परिणाम महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना नीत सरकार की असफलता को दर्शाते हैं।’ 59 नगर पंचायत और नगर परिषदों में नवंबर 2015 में हुए चुनाव में भाजपा 254 वाडरें में जीत के साथ पहले स्थान पर रही थी। उस समय कांग्रेस को 239 वार्डों , राकांपा को 201 वार्डों और शिवसेना को 126 वार्डों में जीत मिली थी।
Special News Coverage
Next Story
Share it