Home > Archived > सर्वे: आज भी मिडल क्लास की पहली पसंद है पीएम मोदी

सर्वे: आज भी मिडल क्लास की पहली पसंद है पीएम मोदी

 Special News Coverage |  7 April 2016 7:02 AM GMT

सर्वे: आज भी मिडल क्लास की पहली पसंद है पीएम मोदी

नई दिल्लीः स्पष्ट बहुमत के साथ देश की सत्ता हासिल करने वाली मोदी सरकार को लगभग दो साल बाद भी विभिन्न पहलुओं पर लोगों का अच्छा-खास समर्थन हासिल है। ET-TNS के एक सर्वे में ये सामने आई है कि शहरों में रहने वाले वेतनभोगी वर्ग पर पीएम नरेंद्र मोदी की पकड़ बनी हुई है। खासतौर से देश के सात बड़े शहरों में यह रुझान अब भी मजबूत है। रोचक बात ये भी है कि कई विवादों में घिरने और अपने रिफॉर्म एजेंडा की प्रमुख बातों पर इस सरकार के आगे न बढ़ पाने के बावजूद यह स्थिति है।

आर्थिक प्रदर्शन के मोर्चे पर लोगों ने सरकार को 86 पर्सेंट रेटिंग दी है। वहीं 62 पर्सेंट ने कहा है कि रोजगार के अवसर बनाने के मामले में इस सरकार ने अच्छा काम किया है। सर्वे में शामिल 58 पर्सेंट लोगों को उम्मीद है कि भविष्य बेहतर होगा।

राष्ट्रवाद और राजद्रोह से जुड़े विवाद पर पूछे गए प्रश्नों जो जवाब दिए उसमें में मोदी सरकार को समर्थन हासिल है। सर्वे में शामिल लगभग आधे लोगों (46 पर्सेंट) का मानना है कि यह विवाद कांग्रेस पार्टी की गलती है और आधे से ज्यादा (52 पर्सेंट) का मानना है कि सरकार ने इस मामले में सही कदम उठाया।

66 पर्सेंट लोगों ने संसद में गतिरोध के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया। 61 पर्सेंट लोगों का मानना था कि संसद में हंगामे ने सरकार के डिवेलपमेंट अजेंडा को पलीता लगा दिया है। इसके अलावा आम बजट के बारे में लोगों की राय बंटी रही। आधे से ज्यादा लोगों का मानना है कि बजट घरेलू खर्च पर बुरा असर डालेगा, वहीं हर पांच में से करीब दो लोगों ने कहा कि सेविंग्स पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा। यह सर्वे 29 फरवरी को बजट पेश होने के बाद, लेकिन एंप्लॉयीज प्रॉविडेंट फंड पर सरकार का स्पष्टीकरण आने से पहले किया गया था।

वहीं सराकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को भी लोगों से अच्छा खासा सराहा। स्वच्छ भारत अभियान को 76 पर्सेंट, मेक इन इंडिया को 65 पर्सेंट, डिजिटल इंडिया और स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट को 55-55 पर्सेंट समर्थन मिला। गौरतलब बात यह है कि सर्वे के नतीजे पूरे देश या आबादी के विभिन्न हिस्सों के मूड का अंदाजा नहीं दे रहे हैं। ये नतीजे मोदी और BJP के कट्टर समर्थक माने जाने वाले वर्ग के बीच सरकार की लोकप्रियता का अंदाजा दे रहे हैं।

सर्वेक्षकों ने दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, बेंगलुरु, कोलकाता, हैदराबाद और अहमदाबाद में सर्वे किया। उनका सैंपल साइज 2,000 से ज्यादा लोगों का था, जिसमें 24 से 50 साल की उम्र के बीच के लोगों को शामिल किया गया था। इन लोगों की वार्षिक पारिवारिक आय 3 लाख से 20 लाख रुपये के बीच थी। सर्वे में जवाब देने वालों में लगभग आधी महिलाएं शामिल हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के मुकाबले मोदी की लोकप्रियता बहुत ज्यादा उभर कर आई है। एक से 10 के पैमाने पर मोदी को 7.68 तो राहुल को 3.61 का स्कोर मिला। फाइनैंस मिनिस्टर अरुण जेटली भी 5.86 के साथ राहुल से बेहतर रहे। सर्वे में शामिल 41 पर्सेंट लोगों ने पीएम को 9 या 10 की रेटिंग दी।

गुजरात की राजधानी अहमदाबाद ने पूरे दिल से मोदी सरकार को सपॉर्ट दिया और दिल्ली और बेंगलुरु से भी उन्हें अच्छा समर्थन मिला, वहीं मुंबई का रुख संतुलित दिखा। यहां लोगों ने कहा कि इस सरकार को कुछ मुद्दे बेहतर ढंग से संभालने चाहिए थे। चेन्नै, हैदराबाद और कोलकाता का रुख उलटा रहा और यहां इस सरकार के प्रति अच्छी राय नहीं दिखी। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव शुरू हो चुका है, वहीं तमिलनाडु में 16 मई को मतदान होगा।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top