Top
Begin typing your search...

इतिहासकार रामचंद्र गुहा का बड़ा बयान, बोले- राहुल गांधी को चुनकर केरल की जनता ने 'विनाशकारी काम' किया

उन्‍होंने कहा कि अगर केरल के लोग वर्ष 2024 में दोबारा राहुल गांधी को चुनते हैं तो इससे फिर नरेंद्र मोदी को बढ़त मिलेगी।

इतिहासकार रामचंद्र गुहा का बड़ा बयान, बोले- राहुल गांधी को चुनकर केरल की जनता ने विनाशकारी काम किया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

चर्चित इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने कहा है कि मेहनती और अपनी मेहनत से आगे बढ़ने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने 'पांचवीं पीढ़ी के शासक' राहुल गांधी का भारतीय राजनीति में कोई चांस नहीं है। गुहा ने कहा कि केरल की जनता ने राहुल गांधी को संसद के लिए चुनकर विनाशकारी काम किया है। उन्‍होंने कहा कि अगर केरल के लोग वर्ष 2024 में दोबारा राहुल गांधी को चुनते हैं तो इससे फिर नरेंद्र मोदी को बढ़त मिलेगी।

कोझिकोड में आयोजित केरल साहित्‍य महोत्‍सव में रामचंद्र गुहा ने कहा, 'आप (मलयाली) लोगों ने संसद के लिए राहुल गांधी को क्‍यों चुना? मैं निजी रूप से राहुल गांधी के खिलाफ नहीं हूं। वह बहुत शिष्‍ट हैं और सभ्‍य हैं लेकिन युवा भारत पांचवीं पीढ़ी के शासक को नहीं चाहता है। अगर आप मलयाली लोग दोबारा राहुल गांधी को वर्ष 2024 में दोबारा चुनने की गलती करते हैं तो इससे सिर्फ नरेंद्र मोदी को फायदा होगा क्‍योंकि नरेंद्र मोदी का एक बड़ा लाभ यह है कि वह राहुल गांधी नहीं हैं।'

गुहा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी स्‍वतंत्रता आंदोलन के दौरान की एक 'महान पार्टी' से गिरकर एक 'दयनीय परिवारिक फर्म' में बदल गई है और यह भारत में हिंदुत्‍व की प्रधानता और कट्टर राष्‍ट्रवाद का एक कारण है। गुहा राष्‍ट्रवाद बनाम कट्टर राष्‍ट्रवाद विषय पर अपना मत रख रहे थे। केरल के लोगों की भारी भीड़ के सामने गुहा ने कहा, 'केरल आपने भारत के लिए कई बेहतरीन काम किए हैं लेकिन राहुल गांधी को संसद में भेजकर आपने विनाशकारी काम किया।'

बता दें राहुल गांधी वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में अपने परिवार के गढ़ उत्‍तर प्रदेश के अमेठी से चुनाव हार गए थे लेकिन वह केरल के वायनाड से चुनाव जीत गए थे। गुहा ने कहा, 'नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा फायदा यह है कि वह राहुल गांधी नहीं हैं। वह (मोदी) अपनी मेहनत से नेता बने हैं। मोदी ने 15 साल तक एक राज्‍य को चलाया है। उनके पास प्रशासनिक अनुभव है। वह अविश्‍वसनीय रूप से बेहद मेहनती हैं और वह कभी भी यूरोप में छुट्टी नहीं मनाते हैं। मेरा विश्‍वास करिए मैं यह सब पूरी गंभीरता के साथ कह रहा हूं।'

सोनिया गांधी पर भी साधा निशाना

गुहा ने कहा कि अगर राहुल गांधी 'ज्‍यादा समझदार, ज्‍यादा मेहनती, यूरोप में कभी छुट्टियां नहीं मनाते' फिर भी पांचवीं पीढ़ी के शासक के नाते वह फिर भी अपनी मेहनत से आगे बढ़ने वाले मोदी के आगे फायदेमंद नहीं रहते। इतिहासकार ने सोनिया गांधी पर भी निशाना साधा। गुहा ने कहा कि सोनिया गांधी उन्‍हें 'खत्‍म हो चुके मुगल वंश' की याद दिलाती हैं जो अपने साम्राज्‍य की स्थिति से अंजान थे।

गुहा ने कहा, 'भारत लोकतांत्रिक बन रहा और सामंतवाद कम हो रहा है और गांधी परिवार इसे अभी समझ नहीं रहा है। आप (सोनिया गांधी) दिल्‍ली में हो, आपका साम्राज्‍य लगातार सिकुड़ रहा है लेकिन आपके चमचे आपको अभी भी बता रहे हैं आप अभी भी बादशाह हो।' उन्‍होंने गांधी-नेहरू परिवार के बारे में कहा कि आपके गलतियों की सजा आने वाली सात पीढ़‍ियों को भुगतना होगा। गुहा ने कहा कि राहुल गांधी की वजह से नरेंद्र मोदी जवाहर लाल नेहरू का मुद्दा उठाते हैं और कहते हैं कि नेहरू ने 'चीन में यह किया, कश्‍मीर में यह किया, तलाक में यह किया।' उन्‍होंने कहा कि अगर राहुल गांधी राजनीतिक परिदृश्‍य से गायब हो जाते हैं तो मोदी को अपनी नीतियों और अपनी असफलता के बारे में मजबूरन बात करना ही होगा।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it