Top
Begin typing your search...

Hanuman Jayanti 2019 : हनुमान जयंती पर विशेष

Hanuman Jayanti 2019 : हनुमान जयंती पर विशेष
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आज भगवान के अनन्य भक्त रहे हनुमान शिव का अवतार माना जाता है। इस संबंध में ग्रंथों में तमाम बातें भी लिखी जा चुकी हैं जो इस बात का साक्ष्‍य हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि शिव के 11रूद्र अवतारों में से एक हनुमान अवतार को अमरता का वरदान किसने दिया और क्‍यों श्रीराम के अनन्‍य भक्‍त श्री हनुमान राम के जाने के बाद भी धरती पर विराजमान हैं। इस बारे में रामायण की चौपाई में संपूर्ण उल्‍लेख मिलता है। तो आइए आज 19 अप्रैल यानी कि हनुमान जयंती के शुभ अवसर पर मर्यादा पुरुषोत्‍तम श्रीराम के परम भक्‍त श्री हनुमान के अमरत्‍व प्राप्ति के बारे में जानते हैं।


ग्रंथों में उल्‍लेख मिलता है कि त्रेतायुग में जब भगवान श्रीराम का जन्‍म हुआ तो एक दिन भोलेनाथ ने माता पार्वती से पृथ्‍वीलोक पर अपने प्रभु श्रीराम के पास जाने की इच्‍छा जाहिर की। इसके बाद माता ने उनसे कहा कि यदि शिव पृथ्‍वी पर चले गए तो मां भी उनके बिना नहीं रह पाएंगी। ऐसी स्थिति में शंभू ने माता पार्वती के विरह की बात पर विचारकर अपने 11 रूद्रों की कथा मां से कही और उन्‍हें बताया कि इन्‍हीं 11 रूद्रों में से एक हनुमान अवतार है जो कि वह लेने जा रहे हैं। भोलेनाथ की कथाओं में यह भी उल्‍लेख मिलता है कि त्रिकालदर्शी होने के चलते वह यह जानते थे कि भगवान राम के जीवन में आगे किस तरह की परेशानियां आने वाली हैं और पृथ्‍वी का कल्‍याण करने के लिए प्रभु को उनकी आवश्‍यकता पड़ेगी। इसके अलावा यह भी उल्‍लेख मिलता है कि शिव ये जानते थे कि कलयुग में जब पृथ्‍वी पर न राम होंगे न शिव तब पृथ्‍वी के लोगों को ऐसे किसी प्रभु सेवक की आवश्‍यकता होगी जो श्रीराम की कृपा से उनका कल्‍याण कर सके। यही वजह है कि शिव के हनुमान अवतार को सर्वश्रेष्‍ठ अवतार की संज्ञा दी गई है।



उल्‍लेख मिलता है कि जब श्रीराम ने अपनी मृत्यु की घोषणा की तो यह सुनकर राम भक्त हनुमान जी बहुत आहत हुए। वह माता सीता के पास जाते हैं और कहते हैं 'हे माता मुझे आपने अजर-अमर होने का वरदान तो दिया किन्तु एक बात बताएं कि जब मेरे प्रभु राम ही धरती पर नहीं होंगे तो मैं यहां क्‍या करुंगा? मुझे अपना दिया हुआ अमरता का वरदान वापस ले लीजिए।' जब हनुमान माता-सीता के सामने जिद पर अड़ जाते हैं तब माता सीता श्रीराम का ध्‍यान करती हैं वह प्रकट होते हैं। इसके बाद श्रीराम हनुमान को गले लगाते हुए कहते हैं 'हनुमान मुझे पता था कि तुम सीता के पास आकर यही बोलोगे। देखो हनुमान धरती पर आने वाला हर प्राणी, चाहे वह संत है या देवता कोई भी अमर नहीं है। तुमको तो वरदान है हनुमान, क्योंकि जब इस धरती पर और कोई नहीं होगा तो राम नाम लेने वालों का बेड़ा तुमको ही तो पार करना है। एक समय ऐसा आएगा जब धरती पर कोई देव अवतार नहीं होगा, पापी लोगों की संख्या अधिक होगी तब राम के भक्तों का उद्धार मेरा हनुमान ही तो करेगा। इसलिए तुमको अमरता का वरदान दिलवाया गया है हनुमान।' तब हनुमान जी अपने अमरता के वरदान को समझते हैं और राम की आज्ञा समझकर आज भी धरती पर विराजमान हैं।


Special Coverage News
Next Story
Share it