Top
Home > Archived > वीरेंद्र सहवाग ने 37वें बर्थडे पर इंटरनेशनल क्रिकेट को कहा अलविदा, यादगार पलों को किया साझा

वीरेंद्र सहवाग ने 37वें बर्थडे पर इंटरनेशनल क्रिकेट को कहा अलविदा, यादगार पलों को किया साझा

 Special News Coverage |  20 Oct 2015 1:31 PM GMT

virendra sehwag


नई दिल्ली : वीरेंद्र सहवाग ने मंगलवार को 37वें बर्थडे पर इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया। वे अब आईपीएल भी नहीं खेलेंगे। वीरू ने अपने संन्यास की घोषणा ट्वीटर पर की। इसके साथ ही सहवाग ने अपने संन्यास को लेकर एक संदेश भी ट्विटर पर जारी किया। अपने संदेश में सहवाग ने क्रिकेट जीवन से जुड़े सभी लोगों और संस्थाओं का शुक्रिया कहा है।

सहवाग ने कहा, "जिस दिन मैंने टेस्ट में डेब्यू किया, वो मेरी जिंदगी का सबसे यादगार पल रहा। मेरे क्रिकेट करियर का चीयरेबल मोमेंट टेस्ट में 300 रन बनाना, वर्ल्ड कप-2011 जीतना और श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट में 201 रन की पारी खेलना रहा।


वीरेंद्र सहवाग ने अपने संदेश में लिखा है कि कल (सोमवार को) मेरे रिटारयमेंट की खबर काफी बढ़ा-चढ़ाकर दिखाई गई। हालांकि, मैंने हमेशा वही किया है जो मुझे अच्छा लगा, ना कि लोगों ने जो अच्छा समझा। ईश्वर की कृपा हमारे साथ रही और वह सब होता गया जो मैंने चाहा फिर चाहे बात क्रिकेट के मैदान की हो या फिर मेरी जिंदगी की।

सहवाग ने कहा कि भारत के लिए खेलना एक यादगार सफ़र रहा है और मैंने इसे साथी खिलाड़ियों और भारतीय क्रिकेट फ़ैंस के लिए और यादगार बनाने की कोशिश की। मुझे लगता है कि ऐसा करने में मैं कुछ हद तक कामयाब रहा। मेरा समर्थन और प्यार के लिए सभी को धन्यवाद।

मुल्तान के सुल्तान के नाम से मशहूर इंडियन बैट्समैन ने कहा, "मैं इस समय अपने पिता को बहुत याद कर रहा हूं, जो मेरे करियर की शुरुआत में मेरे साथ रहे। मैंने उन्हें निश्चित ही प्राउड फील करने का मौका दिया। वे आज जहां भी होंगे, मुझे देखकर प्राउड महसूस कर रहे होंगे। मेरी मां, पत्नी आरती और बच्चे आर्यवीर और वेदांत मेरी ताकत हैं। इनकी वजह से मुझे कभी जिंदगी में डर नहीं लगा और मैं सिर ऊंचा करके जी सका।"

वीरू ने कहा, "मैं वर्ल्ड का सबसे लकी क्रिकेटर हूं। जिसे सचिन, द्रविड़, गांगुली, कुंबले और जहीर खान जैसे लीजेंड्स के साथ क्रिकेट खेलने को मिला।" उन्होंने आगे कहा, "सचिन तेंडुलकर, सुनील गावसकर और कपिलदेव हमेशा मेरे रोल मॉडल रहे हैं। मैं उन्हें देखकर क्रिकेट सीखता रहा।"

दुनिया भर के बॉलर्स के लिए खौफ का पर्याय रहे सहवाग को भी एक बॉलर से दर लगता था। सेहवाग ने इसका खुलासा करते हुए कहा कि उन्हें श्रीलंकाई स्पिनर मुरलीधरन का सामना करते हुए डर लगता था।

सहवाग का क्रिकेट करियर...
वनडे : 251 मैच, 8273 रन - 15 सेन्चुरी और 38 हाफ सेन्चुरी
टेस्ट : 104 टेस्ट, 8586 रन - 23 सेन्चुरी और 32 हाफ सेन्चुरी
टी-20 : 19 T-20 मैच - 394 रन
href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">
Facebook
पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

======================================


style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">


Next Story
Share it