Home > Archived > 13 दिनों में 12 बच्चों की मौत, शौचालय का पानी पी रहे हैं बच्चे

13 दिनों में 12 बच्चों की मौत, शौचालय का पानी पी रहे हैं बच्चे

 Special News Coverage |  30 April 2016 8:22 AM GMT

13 दिनों में 12 बच्चों की मौत, शौचालय का पानी पी रहे हैं बच्चे

राजस्थान: जयपुर के सरकारी पुर्नवास केंद्र में बीते 13 दिनों के दौरान 12 विमंदित बच्चों की लगातार मौत। यह माना जा रहा है कि दूषित पानी और खाने से बच्चों की मौत हुई है। सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री अरुण चतुर्वेदी ने शुक्रवार को यहां जेके लोन अस्पताल जाकर भर्ती बच्चों के स्वास्थ्य की जानकारी हासिल की। भर्ती बच्चों में से तीन की हालत गंभीर बनी हुई है।

केंद्र में बनाए जाने वाले खाने के सामान के साथ ही बच्चों को पिलाए जाने वाले पानी के सैम्पल भी लिए गए हैं। चतुर्वेदी ने बताया कि आला अफसरों की टीम पूरे मामले की पड़ताल करेगी और दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बच्चों की मौत होने को दुखद और गंभीर करार दिया। पुर्नवास केंद्र प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अशोक परनामी के इलाके में स्थित है। परनामी ने भी शुक्रवार दोपहर बाद वहां का दौरा किया। परनामी अस्पताल भी गए और वहां डाक्टरों से जानकारी हासिल की।


डाक्टरों का कहना है कि शुरुआती तौर पर दूषित खानपान से बच्चों की हालत बिगड़ना लगता है। अस्पताल के अनुसार पहला मामला 21 अप्रैल को सामने आया जब एसएमएस (सवाई मानसिंह अस्पताल) में बच्चों के जेके लोन अस्पताल में उल्टी व दस्त और पानी की कमी की शिकायत पर बच्चों को भर्ती कराया गया था। डाक्टरों का कहना है कि उस समय किसी जीवाणु के संक्रमण की वजह से पुर्नवास केंद्र के बच्चे बीमार हुए होंगे।

विमंदित केंद्र की डाक्टर और अधीक्षक का कहना है कि पूरी मेडिकल रिपोर्ट मिलने पर ही असली वजह सामने आ पाएगी। सामाजिक न्याय मंत्री चतुर्वेदी ने बताया कि शनिवार तक रिपोर्ट सरकार को मिल जाएगी।

जामडोली स्थित विमंदित बच्चों के गृह में पिछले करीब 13 दिनों में 12 लोगों की मौत के मामले ने अब सियासी पारे में भी हलचल पैदा कर दी है। वहीं इस मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने कड़ा रुख अख्तियार किया है। आयोग की ओर से इस मामले में राजस्थान सरकार को नोटिस जारी किया गया है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top