Top
Home > Archived > उद्योगपति के घर में आलमारी से मिली अचेत 14 साल की नाबालिग बच्ची

उद्योगपति के घर में आलमारी से मिली अचेत 14 साल की नाबालिग बच्ची

 Special News Coverage |  15 Oct 2015 6:24 AM GMT


girl

गुड़गांव : गुड़गांव की कृष्ण कॉलोनी स्थित एक उद्योगपति के घर से झारखंड की 14 साल की एक आदिवासी लड़की को बचाया गया, जहां उसे दिल्ली की एक प्लेसमेंट कंपनी ने घरेलू कामकाज के लिए भेजा था।

सूत्रों के मुताबिक जब पुलिस और एक एनजीओ की टीम ने उद्योगपति के घर छापा मारा तो लड़की अलमारी में बेहोशी की हालत में मिली। पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि पीसीआर (पुलिस कंट्रोल रूम) में किसी ने फोन करके एक नाबालिग लड़की को घरेलू कामकाज के लिए नौकरी पर रखे जाने की खबर दी। इसके बाद पुलिस ने चाइल्डलाइन को सूचना दी और एनजीओ शक्ति वाहिनी के साथ एक टीम गठित करके बच्ची को बचाया गया।


बचाव अभियान का नेतृत्व करने वाले शक्ति वाहिनी के ऋषिकांत ने एक अंग्रेज़ी अखबार को बताया कि लड़की के शरीर पर कई चोट भी हैं। ऋषि ने बताया, 'अलग-अलग चीजों के काफी पीटे जाने की वजह से उसके शरीर पर काफी चोटें आईं। उसकी आंख में भी चोट लगी है और पीठ पर एक घाव है। ऋषि ने बताया, 'बच्ची प्लेसमेंट एजेंसी का नाम नहीं बता पा रही है। हम इस मामले में झारखंड सरकार और हरियाणा पुलिस की मदद लेंगे, ताकि तस्करों को पकड़ कर सजा दी जा सके।'

चाइल्ड वेलफेयर कमिटी की अध्यक्ष शकुंतला धल ने बताया कि जब बचाव दल उद्योगपति सागर जैन के घर पहुंचा तो जैन दंपती ने टीम को गुमराह करने की कोशिश की।

वही जैन की पत्नी ने मामले से पल्ला झाड़ने की कोशिश की, लेकिन खबर देने वाले शख्स ने दोबारा फोन करके पूरे घर की तलाशी लेने के लिए कहा। दूसरी तलाशी के दौरान लड़की बेहोशी की हालत में अलमारी में मिली। जब उसे पानी दिया गया, तब वह बात करने की स्थिति में आई।

href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">Facebook
पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें




style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">


Next Story
Share it