Home > Archived > NSG ने 600 कमांडो को VVIP की सुरक्षा से हटाया

NSG ने 600 कमांडो को VVIP की सुरक्षा से हटाया

 Special News Coverage |  15 Feb 2016 8:29 AM GMT

NSG ने 600 कमांडो को VVIP की सुरक्षा से हटाया

नई दिल्ली : आतंकवाद रोधी अभियानों की अपनी वास्तविक भूमिका की तरफ लौटते हुए एनएसजी ने अपने 600 से अधिक कमांडो को वीवीआईपी सुरक्षा इकाई से हटा लिया है और पहली बार उनका इस्तेमाल पठानकोट हमले के दौरान किया। यह योजना पिछले दो साल से अधिक समय से बन रही है और पठानकोट वायुसेना स्टेशन पर हमले के दौरान इन ब्लैक कैट कमांडो का पहली बार इस्तेमाल किया गया।

नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (एनएसजी) की कमांडो टीमें पांच प्राथमिक इकाइयों के तहत गठित की गई हैं। इनमें दो एसएजी शामिल हैं जिनमें सेना से अधिकारी और जवान लिए गए हैं तथा तीन एसआरजी टीमें हैं जिनमें अर्धसैनिक बलों से कर्मी लिए गए हैं। दो एसएजी (51 और 52) में से प्रत्येक को आतंकवाद रोधी, अपहरण रोधी और बंधक बचाव अभियानों का दायित्व सौंपा गया है।


बल की ओर से नए ब्लूप्रिंट पर किए जा रहे काम के अनुसार 11वें स्पशेल रेंजर्स ग्रुप (एसआरजी) की कुल तीन टीमों में से दो टीमों को वीवीआईपी सुरक्षा ड्यूटी से हटा लिया गया है और उन्हें आतंकवादी निरोधी अभियानों का दायित्व सौंपा गया है।

एसआरजी (11, 12 और 13) को इस तरह के अभियानों के दौरान एसएजी को इस तरह के अभियानों के दौरान एसएजी को साजो सामान की मदद उपलब्ध कराने में इस्तेमाल किया गया तथा वर्षों तक उच्च जोखिम वाले वीवीआईपी की सुरक्षा में प्राथमिक रूप से तैनात किया गया है। प्रत्येक एसआरजी में तीन टीमें हैं। प्रत्येक टीम में 300 से अधिक कमांडो हैं और एक पूरी यूनिट की अनुमानित संख्या 1,000 कर्मियों की है।

साल 1984 में एनएसजी कमांडोज का गठन आतंकियों के साथ होने वाली मुठभेड़ के लिए ही किया गया था. बाद में एनएसजी कमांडो का प्रयोग आतंकियों के खिलाफ होने वाले ऑपरेशनों के लिए भी किया जाने लगा. कुछ समय पहले एनएसजी ने सरकार से कोई और अतिरिक्त जिम्मेदारी न देने की अपील की थी. जिसके बाद पिछले दो साल से इन्हें कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी नहीं दी गई.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top