Top
Home > Archived > बिहार : बाहुबली नेता और उनकी पत्नी ने एक ही सीट से किया पर्चा दाखिल

बिहार : बाहुबली नेता और उनकी पत्नी ने एक ही सीट से किया पर्चा दाखिल

 Special News Coverage |  10 Oct 2015 3:45 PM GMT




बिहार चुनाव : बिहार में बाहुबली नेता के रूप में मशहूर पूर्व जेडीयू विधायक अनंत सिंह और उनकी पत्नी नीलम सिंह ने बुधवार को मोकामा से निर्दलीय पर्चा भरा है। ये पहला मौका है जब अनंत सिंह की पत्नी सार्वजनिक तौर पर सामने आ रही हैं।

शपथपत्र के अनुसार अनंत के पास अचल संपत्ति जिसमें जमीन, घर, पटना में मॉल व अन्य की कीमत लगभग 7 करोड़ 94 लाख 50 हजार है, जबकि उनकी पत्नी 17 करोड़ 20 लाख 25 हजार कीमत के बराबर अचल संपत्ति रखती हैं। पत्नी के पास कैश इन हैंड 391440 रुपए है तो अनंत के पास कैश इन हैंड मात्र 40800 है। 150 ग्राम सोने पति के पास है पर पत्नी के पास 200 ग्राम। कुल मिलाकर अनंत के पास 6950591 रुपए की चल संपत्ति है तो पत्नी के पास 21586395 रुपए की चल संपत्ति है। पति -पत्नी पर लोन व अन्य कर्ज भी हैं। पत्नी पर 3.62 करोड़ का कर्ज व अन्य देनदारी है तो पति 40 लाख के कर्जदार हैं।


ये पहला मौका है जब अनंत सिंह की पत्नी सार्वजनिक तौर पर सामने आ रही हैं। दिलचस्प है कि नीलम सिंह रोजाना सुबह 8 बजे से अपने क्षेत्र में प्रचार के लिए निकल जाती हैं। लेकिन वो अपने लिए नहीं बल्कि अनंत सिंह के लिए प्रचार कर रही हैं। वो कहती है, ''मेरे पति ने मोकामा के लिए बहुत कुछ किया है, मुझे उम्मीद है कि लोग मुझे निराश नहीं करेंगे. जनता की अदालत में अर्जी दे दी गई है, फैसला वही करेगी।'' पति-पत्नी के एक ही सीट से लड़ने की वजह का सवाल नीलम टाल जाती हैं। वो कहती है इसका जवाब बाद में दिया जाएगा।

अनंत को नामांकन रद्द होने का डर
पुलिस ने अनंत सिंह के नामांकन के ठीक बाद उनके बाढ़ स्थित आवास पर छापा मारा। छापेमारी में जवानों ने अनंत के आवास की सघन तलाशी भी ली। मालूम हो कि अनंत सिंह फिलहाल कई मामलों में जेल में बंद हैं। पुलिस की इस कार्रवाई को अनंत के समर्थकों ने राजनीतिक रंजिश का परिणाम बताया है। फिलहाल अभी तक ये पता नहीं चल पाया है कि छापे की कार्रवाई क्यों की गई है।



style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">




अनंत के करीबी बताते है कि अनंत सिंह को अपना नामांकन रद्द होने का डर से उन्होंने अपनी पत्नी से भी नामांकन करवाया है। अगर अनंत सिंह का नामांकन रद्द नहीं होता है तो उनकी पत्नी के नाम वापस लेने की पूरी संभावना है। अनंत सिंह चौथी बार यहां से चुनाव लड़ रहे हैं। उन पर 50 ज्यादा मामले दर्ज हैं। अपने इलाके में समानांतर सरकार चलाने के चलते उन्हें छोटे सरकार के नाम से भी जाना जाता है।

इससे पहले भी साल 2010 में रोहतास की डेहरी सीट से विधायक प्रदीप जोशी और उनकी पत्नी ज्योति रश्मि ने निर्दलीय पर्चा भरा था। प्रदीप जोशी का नामांकन रद्द होने हो गया था। बाद में ज्योति रश्मि ने बतौर निर्दलीय उम्मीदवार ये सीट जीती थी। इसी तर्ज पर अनंत सिंह और उनकी पत्नी मोकामा से पर्चा दाखिल किया है।

href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">Facebook पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें



style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">


स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it