Top
Home > Archived > बाबा साहब अंबेडकर नहीं होते, तो मैं सीएम और मोदी पीएम नहीं होते - शिवराज सिंह

बाबा साहब अंबेडकर नहीं होते, तो मैं सीएम और मोदी पीएम नहीं होते - शिवराज सिंह

 Special News Coverage |  19 Oct 2015 12:43 PM GMT

375588-shivraj-singh-chouhan
भोपालः आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने आरक्षण पर पुनर्विचार का सुझाव दिया था। बिहार चुनाव के कारण मोदी सरकार ने इस विषय को टाल दिया । किंतु मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसका तीखा विरोध कर डाला। उन्होंने यह भी कहा कि आरक्षण की बदौलत ही मैं मुख्यमंत्री और मोदी प्रधानमन्त्री बन सके हैं। शिवराज के इस अप्रत्याशित बयान के कई मायने निकाले जाने लगे हैं क्योंकि इस तरह की बयानबाजी शिवराज का चरित्र नहीं रही हैं।




style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">



राजधानी भोपाल में बुद्धिस्ट सोसाइटी ऑफ इंडिया के कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शामिल हुए। उन्होंने कहा कि, 'बाबा साहब अंबेडकर नहीं होते, तो मैं सीएम नहीं होता और नरेंद्र मोदी पीएम नहीं होते। देश में कोई भी माई का लाल आरक्षण खत्म नहीं कर सकता।


मालूम हो कि सीएम शिवराज सिंह का यह बयान उस समय आया है जब देशभर में आरक्षण को लेकर बहस छिड़ी हुई है। आरएसएस चाहता है कि आरक्षण की समीक्षा की जाए एवं इसका लाभ उन लोगों तक पहुंचाया जाए जिन्हे इसकी जरूरत है। स्पष्ट है कि आरएसएस जाति आधारित आरक्षण प्रणाली बदलना चाहता है। बिहार चुनाव के कारण भाजपा ने खुद को इससे अलग कर लिया था परंतु मप्र में शिवराज ने ऐसा तीखा बयान क्यों दिया, यह अनुसंधान का विषय हो गया है।




style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">



Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it