Home > Archived > बिहारः दिन दहाड़े सरेआम दवा बाजार और कचहरी में दो हत्या

बिहारः दिन दहाड़े सरेआम दवा बाजार और कचहरी में दो हत्या

 Special News Coverage |  11 April 2016 7:36 AM GMT

Bihar News

ज्ञानेश्वर वात्स्यायन
आज का दिन बिहार के लिए 'ब्लैक मंडे' जैसा दिख रहा है। पटना की दवा मंडी गोविंद मित्र रोड में दवा व्यवसायी अनिल अग्रवाल की गोली मारकर हत्या। दुकान खोलने के वक़्त की वारदात है। अमित जेनेरिक्स नामक प्रतिष्ठान के मालिक थे। विरोध में दवा मंडी की सभी दुकानें बंद। गोविंद मित्र रोड में रंगदारी कॉल की अभी नहीं थी कोई शिकायत, कई दुकानदारों का दावा। गोली दागने के तरीके से डराना नहीं हत्या का मकसद दिख रहा साफ़। सभी बिन्दुओं पर जांच की दरकार है।


दवा मंडी पटना में दवा व्यापारी की हुई हत्या के बाद बड़ी वारदात की खबर मुजफ्फरपुर से है। यहाँ कोर्ट कैंपस में घुस अपराधियों ने जेल से पेशी के लिए लाए गए हत्यारोपी सूरज को भून दिया है। मौके पर ही मौत हो गई। सूरज 2015 में सरफराज की हुई हत्या का मुख्य आरोपी था। आज हत्या के वक़्त सूरज के हाथ में हथकड़ी लगी हुई थी।

बाइक पर सवार दो की संख्या में आए अपराधियों ने कोर्ट परिसर में सूरज पर ताबड़तोड़ फायरिंग की और फरार हो गए। हत्या की इस वारदात को सुरक्षा के लिहाज से अति संवेदनशील माने जाने वाले कोर्ट परिसर में अंजाम दिया गया। जिस विचाराधीन बंदी की गोली मारकर हत्या की गई है, उसकी पहचान सूरज के रूप में की गई है। सूरज को पंकज मार्केट के सरफराज हत्याकांड में मुख्य अभियुक्त बनाया गया था।


जानकारी के मुताबिक सूरज को जब कोर्ट में पेश करने के लिए लाया जा रहा था, तब अपराधियों ने उसे करीब से एक के बाद एक चार गोलियां मारी। गोली लगने के बाद उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। दिनदहाड़े कोर्ट परिसर में हुई इस हत्या के बाद इलाके में भगदड़ मच गई। गोली चलने के बाद कोर्ट में आए लोग इधर उधर भागने लगे। घटना से आक्रोशित कैदियों ने कोर्ट परिसर में जमकर हंगामा मचाया और कैदी वाहन में तोडफोड़ की।

घटना की सूचना पाकर डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक सूरज गोली लगने के लगभग आधे घंटे तक जीवित था, लेकिन किसी ने उसकी जान बचाने के लिए उसे अस्पताल ले जाने की कोशिश नहीं की।

Tags:    
Share it
Top