Home > Archived > खुलें में शौच ना करें, आदत छोड़ने का लें संकल्प - बी चन्द्रकला

खुलें में शौच ना करें, आदत छोड़ने का लें संकल्प - बी चन्द्रकला

 Special News Coverage |  12 April 2016 6:34 AM GMT

ias b chandrkla

बिजनौर शहजाद अंसारी
तेज तर्रार जिलाधिकारी बी चन्द्रकला ने कहा कि सोच में परिर्वतन से ही जीवन में परिर्वतन सम्भव है। व्यक्ति का व्यवहार ही उसकी पहचान होता है। उन्होने कहा कि आप की सोच में हुए परिर्वतन से ही आपका गांव खुले में शौच करने की शर्मनाक प्रथा से मुक्त हुआ है और यह सब कुछ सामुहिक प्रयासों से ही सम्भव हो सका है। उन्होने खुले में शौच करने की प्रवृति को हतोत्साहित करने के लिए बनायी गयी निगरानी समिति के सभी सदस्य को खुले दिल से बधाई देते हुए कहा कि उनके साहस और निरन्तर प्रयासों से गांव को ओडीएफ अर्थात खुले में शौच मुक्त घोषित किया जा रहा


जिलाधिकारी बी चन्द्रकला नजीबाबाद तहसील के ग्राम इस्लामपुर साहू के ओडीएफ होने के अवसर पर ग्रामवासियों विशेषकर निगरानी समिति के सदस्यों का उत्साहवर्द्वन करते हुए उन्हें सम्मानित कर रही थीं। उन्होने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि इस परम्परा को तभी क़ायम रखा जा सकता है, जब सोच को क़ायम रखा जाए। उन्होंने कहा कि अपने गांव को ओडीएफ बनाने के लिए जिस प्रकार सभी ग्रामवासियों ने परस्पर सहयोग की भावना के साथ कार्य किया है, उसे बनाये रखने के लिए भी भविष्य में इसी भावना के साथ कार्य करते रहेगें।



उन्होने कहा कि गांव का ओडीएफ होना ही केवल गौरव की बात नहीं है, बल्कि इससे भी ज्यादा गौरव की बात है कि ग्रामवासियों ने अपनी बहनों, बेटियों, बहुओं और मांओं को वह सम्मान दिया है, जिसकी कामना हर समय उनके दिल में होती थी। कोई भी नारी यह पसंद कर ही नहीं सकती कि खुले आसमान के नीेचे वह अपने जिस्म को खोले। नारी का सम्मान घर में बने शौचालय के प्रयोग से ही सम्भव है, घर से बाहर जा कर शौच क्रिया से उनके नारीत्व का अपमान होता है और मानसिक पीड़ा उन्हें अलग से सहन करना पड़ती है।

जिलाधिकारी ने कहा कि गांव के ओडीएफ होने से बहुत सी संक्रामक बीमारियों से भी ग्रामवासियों को मुक्ति मिलेगी जिससे उन्हें जानी व माली लाभ प्राप्त होगा। उन्होने समस्त ग्रामवासियों का आहवान किया कि अपने आसपास के गांव के लागों को भी खुले मंे शौच की प्रवृति के प्रति घृणा दिलाने का प्रयास करें ताकि वे स्वयं इस कुप्रथा को त्यागने के लिए मन से आमादा हो सकें। उन्होनंे कहा कि इसका लाभ उन्हें भी मिलेगा क्योंकि वायु और अन्य स्रोतों से फैलने वाला संक्रमण उनके गांव में प्रवेश नहीं कर पाएगा और इस प्रकार उनके प्रयासों से स्वय और आस पास के ग्रामवासी भी लाभान्वित होंगे।


जिलाधिकारी बी चन्द्रकला द्वारा गांव का भ्रमण कर ओडीएफ की वास्तविकता का जायजा भी लिया गया, जिसके दौरान घर-घर बने शौचालय प्रयोग होना प्रकाश में आए। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डा0 इन्द्रमणि त्रिपाठी, जिला पंचायत राज अधिकारी मनीष कुमार, जिला कार्यक्रम अधिकारी दीप्ति भार्गव के अलावा भारी संख्या में ग्रामवासी और निगरानी समिति के सदस्य मौजूद थे।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top