Top
Home > Archived > सीएम आवास पर मेरे संवैधानिक अधिकारों का हनन: IPS अमिताभ

सीएम आवास पर मेरे संवैधानिक अधिकारों का हनन: IPS अमिताभ

 Special News Coverage |  10 March 2016 1:11 PM GMT

ips amitabh thakur

लखनऊ
लखनऊ के निलंबित डीआईजी डी के चौधरी के एक वृद्ध व्यक्ति को अकारण थप्पड़ मारने के 15 दिनों के अन्दर बहाल किये जाने और आईपीएस अमिताभ ठाकुर को 8 महीने से निलंबित रखे जाने से आहत आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर ने मुख्यमंत्री के 5, कालिदास मार्ग स्थित सरकारी आवास के सामने बैठ कर धरना देने गये। जहा पहले से मौजूद पुलिस बल ने उन्हें बैठने नहीं दिया।


क्या हुआ आज
जब अमिताभ मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचे तो मौजूद एसओ गौतमपल्ली एस के कटियार के नेतृत्व में पुलिस बल ने उनसे कहा कि वे गेट से आगे नहीं जा सकते। अमिताभ द्वारा कारण पूछे जाने पर उन्होंने पहले धारा 144 सीआरपीसी और बाद में हाई सिक्यूरिटी ज़ोन होने का हवाला दिया। अमिताभ ने कहा कि वे पूरी तरह अकेले हैं और उनके पास एक लैपटॉप और दरी के अलावा कोई भी प्रतिबंधित सामान नहीं है। जबकि धारा 144 सीआरपीसी पांच से अधिक लोगों पर लागू होता है और जिस जगह वे जा कर बैठना चाहते हैं, वहां पहले से पचासों लोगों को जाने की अनुमति दी गयी है।

ips amitabh
जब पुलिसवालों ने उन्हें फिर भी नहीं जाने दिया तो अमिताभ कुछ देर के लिए वहीँ रोड के किनारे बैठे और उसके बाद वहां से यह कहते हुए गए कि चूँकि उनके संवैधानिक अधिकारों का हनन हुआ है और उनके अवैधानिक ढंग से रोका गया है जो धारा 341 और 342 आईपीसी का अपराध है, अतः वे इस सम्बन्ध में कोर्ट जायेंगे।

अमिताभ के अनुसार पिछले कई महीनों से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के इशारों पर उनका लगातार उत्पीड़न किया जा रहा है और 90 दिन की अवधि बीतने के बाद भी उन्हें अवैध तरीके से निलंबित रखा गया है। जो कि गैर क़ानूनी है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it