Top
Home > Archived > अर्थी से उठ खड़ा हुआ मुर्दा, तो मचा हड़कम्प

अर्थी से उठ खड़ा हुआ मुर्दा, तो मचा हड़कम्प

 Special News Coverage |  28 March 2016 10:01 AM GMT


बिहार: बेगुसराय निवासी विकास कुमार के शव को अर्थी पर रखने से पहले ही मृतक ने आंखें खोल दीं। परिजनों ने बताया कि विकास जेनरेटर से करंट लगने से गंभीर रूप से झुलस गया था। उसे तुरंत घर के बगल के प्राथमिक स्वास्थ केंद्र में इलाज के लिए ले जाया गया। वहां डॉक्टर न होने के चलते इलाज के आभाव में दम तोड़ दिया। अस्पताल कर्मियों की सूचना पर आधे घंटे बाद पहुंचे डॉक्टर ने विकास को मृत घोषित कर दिया। विकास का इलाज करने वाले डॉक्टर धीरज ने कहा कि युवक की मौत करीब 11:30 बजे ही हो गई थी।


मुर्दे को जिंदा देख सब डर गए। इसके बाद कुछ लोगों ने युवक को गर्म दूध पिलाने को कहा। युवक को दूध पिलाया गया। इसके बाद आनन-फानन में उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान फिर से उसकी मौत हो गई। परिजनों ने शव सड़क पर रख मंझौल चेरिया बरियारपुर पथ को जाम कर दिया। तभी युवक फिर से जिंदा हो गया। लोग आनन-फानन में उसे सड़क किनारे एक दुकान में ले गए। वहां उनकी मालिश की गई।

इलाज के लिए डॉक्टर भी पहुंचे लेकिन कुछ देर बाद ही फिर से युवक की मौत हो गई। युवक की मौत से गुस्साए परिजनों ने डॉक्टरों पर इलाज में देरी करने का आरोप लगाया है। डॉक्टर ने बताया कि करंट लगने के केस में कई बार मौत के बाद भी मांसपेशियों में हलचल हो जाती है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it