Home > Archived > पति के अंतिम संस्कार के लिए बच्चों को रखा गिरवी

पति के अंतिम संस्कार के लिए बच्चों को रखा गिरवी

 Special News Coverage |  18 Feb 2016 9:28 AM GMT

पति के अंतिम संस्कार के लिए बच्चों को रखा गिरवी

ओडिशा: खनिज पदार्थों से अमीर माने जाने वाले उड़ीसा में गरीबी की एक ऐसी कहानी सामने आई है जिसमें एक व्‍यक्ति को मौत के बाद कफन तक मयस्‍सर नहीं हो पाया। हालांकि, उसकी पत्‍नी ने इतनी गरीबी के बावजूद उसका अंतिम संस्‍कार किया लेकिन पति को कफन मिल जाए इसलिए महिला ने अपने दो बेटों को गिरवी रख दिया।

ओडिशा के क्योंझर जिले में चंपुआ गांव में एक विधवा महिला को पति के अंतिम संस्‍कार के लिए दो बच्‍चों को गिरवी रखकर पैसे जुटाने पड़े। घटना 26 जनवरी की है। 18 फरवरी को ब्‍लॉक डेवलपमेंट अधिकारी एस नायक जब चंपुआ गांव गए तो मामले का खुलासा हुआ। उन्‍हें बच्‍चों को गिरवी रखने की जानकारी मिली थी। सावित्री नायक के पति रायबा की मौत पिछले दिनों हो गयी थी। परिवार में वह इकलौता कमाने वाला था। उसके पति रायबा की मौत 26 जनवरी को हो गई थी। रायबा लंबे समय से बीमार था। इसके चलते परिवार की सारी बचत भी समाप्‍त हो गई।


अंतिम संस्‍कार के लिए पैसे न होने पर उसने अपने पांच में से दो बड़े बेटों मुकेश (13) और सुकेश (11) को पड़ोसी के गिरवी रख दिया। इसके बदले में उसने 5000 रुपए लिए। सावित्री ने बताया कि उसके पास बच्‍चों को खिलाने के लिए लिए पैसे नहीं थे। इसके चलते दो बेटों को गिरवी रखना पड़ा। गिरवी रखे गए दोनों बच्‍चे पड़ोसी के जानवरों की देखभाल करते हैं।

बताया जाता है कि पति के अंतिम संस्‍कार के लिए सावित्री ने कई लोगों से मदद मांगी लेकिन किसी ने ऐसा नहीं किया। उसके एक पड़ोसी का कहना है, 'परिवार ने अपनी पूरी बचत राइबा के इलाज पर खर्च कर दी। बच्चों को अपनी मां की मदद के लिए बंधुआ मजदूर बनते और घर छोड़ते हुए देखना बहुत दुखद था।'

उधर बीडीओ नायक बच्चों को गिरवी रखे जाने की बात से इनकार कर रहे हैं। उनका कहना है, 'दोनों बच्चे पैसों के लिए पूरे गांव के जानवरों की देखभाल किया करते थे।' हालांकि वह इस बात से इनकार नहीं करते हैं कि बच्चों ने रोजगार के लिए स्कूल छोड़ दिया।

आपको बता दें, कि राजधानी भुवनेश्वर से महज 200 किलोमीटर दूर स्थित चांपुआ से सनातन महाकुड़ निर्दलीय विधायक हैं, जिनकी कुल संपत्ति 70 करोड़ रुपये से भी अधिक बताई जाती है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top