Breaking News
Home > Archived > खुशखबरी: रेलवे ने यात्रियों के लिए पेश किया रेडी-टू-ईट फूड सर्विस

खुशखबरी: रेलवे ने यात्रियों के लिए पेश किया 'रेडी-टू-ईट' फूड सर्विस

 Special News Coverage |  5 March 2016 1:34 PM GMT

रेलवे ने यात्रियों के लिए पेश किया 'रेडी-टू-ईट' फूड सर्विस

नई दिल्ली: रेल यात्रियों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है। रेलवे ने रेडी-टू-ईट भोजन की सुविधा उपलब्‍ध करा दी है। इसके अंतर्गत चुनिंदा ट्रेनों और स्‍टेशनों पर ई-कैटरिंग सेवा शुरु की गई है। यानी कि अब यात्रियों के पास रेडी-टू-ईट भोजन का भी विकल्‍प होगा। यात्रियों को ट्रेनों पर भोजन के व्यापक विकल्प उपलब्ध कराने के उद्देश्य से रेलवे ने उनके लिए 'रेडी-टु-ईट' फूड सर्विस पेश की हैं।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जहां चुनिंदा ट्रेनों और स्टेशनों पर ई-कैटरिंग सेवा शुरू की गई है, यात्रियों के पास अब ‘रेडी-टु-ईट’ फूड सर्विस का भी विकल्प होगा। उसने कहा कि 'रेडी-टु-ईट' खाद्य वस्तुओं पर दिशानिर्देश सभी मंडलों को जारी किया जा चुका है जहां भोजनयान वाली मेल.एक्सप्रेस ट्रेनों को यात्रियों को 'रेडी-टु-ईट' खाद्य पदार्थ परोसने का विकल्प जोड़ने को कहा गया है।

यात्रियों को साफ सुथरा और अच्छी गुणवत्ता का खाद्य पदार्थ परोसा जाय, यह सुनिश्चित करने के लिए सेवा में कमी के मामले में दंड के प्रावधान किए गए हैं।

ट्रेनों में यात्रियों को भोजन के ज्यादा विकल्प मुहैया कराने की कवायद के तहत रेलवे ने अब रेडी-टु-ईट आइटम उतारे हैं। कुछ चुनिंदा ट्रेनों और स्टेशनों पर ई-कैटरिंग सर्विस शुरू किए जाने से यात्री अब पहले से तैयार भोजन का ऑर्डर दे सकेंगे। रेलवे ने रेडी टु ईट फूड आइटमों की सप्लाई के लिए गिटवाको फार्म, बीटीडब्ल्यू इंडिया, गिट्स फूड्स और आर्यन फूड प्रोडक्ट को पैनल में शामिल किया है। केएफसी, डोमिनोज, हल्दीराम, बिट्टू टिक्की वाला, फूड पांडा पहले से ही पैनल में शामिल हैं। ई-कैटरिंग सर्विस देश की 1350 ट्रेनों में उपलब्ध है। इनमें पैंट्री कार नहीं है। इसके अलावा यह सर्विस 45 स्टेशनों पर भी उपलब्ध है।

यात्रियों को अच्छी गुणवत्ता का भोजन उपलब्ध कराने के लिए केएफसी, डोमिनोज, हल्दीराम, बिट्टू टिक्की वाला, फूड पांडा जैसी प्रतिष्ठित कंपनियों को वेंडर-एग्रिगेटर के तौर पर पहले ही पैनल में शामिल किया जा चुका है। अधिकारी ने बताया कि यात्रियों के लिए भोजन और कैटरिंग सर्विस संबंधी शिकायत या सुझाव दर्ज कराने के लिए एक हेल्पलाइन नंबर 138 भी शुरू की गई है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top