Home > Archived > गुजरात में बीजेपी का अस्तित्व खतरे में, हार पर हार कैसे बचेगी 2017 में साख!

गुजरात में बीजेपी का अस्तित्व खतरे में, हार पर हार कैसे बचेगी 2017 में साख!

 Special News Coverage |  28 April 2016 6:41 AM GMT

bjp-cong-symbol

गांधीनगर
गुजरात के पाटनगर गांधीनगर की महानगर पालिका के चुनाव में भाजपा के नए बने अध्यक्ष की अग्नि परीक्षा भी थी पर जिस बुरी तरह से बीजेपी की खस्ता हालत हुई है। उस से ये बात दृढ हो गई है की अब गुजरात में कमल का खिलना मुमकिन ही नहीं नामुमकिन लगता है। भ्रस्टाचार,महेगाई,लोकशाही का हनन जैसे कई मोर्चो पर बीजेपी ने जनता से खिलवाड़ किया है।

महानगर पालिका के आये चुनाव परिणाम ने केंद्र और प्रदेश सरकार के विकास की पोल खोल दी। परिणामों ने कोंग्रेस में ऑक्सीजन का काम किया है तो बीजेपी के लिए ये बुरी खबर लेकर आया है। कांग्रेस और बीजेपी को 16 16 सीट मिली है। अब मेयर के लिए खरीद फरोक्त का खेल चालू हो जायेगा।


पुराने वादे जुमले बन के रह गए है। तो नए वादों का तिलस्म खोल दिया है लोग पानी मांग रहे है तो ये लोग उन्हें चोर कह रहे है। लोग बिजली की लूट कम करने कह रहे है तो ये लोग भारत माता की जय के नारे लगा रहे है। लोग महगाई कम करने को बोल रहे है तो यह लोग वो देखो देशद्रोही के सर्टिफिकेट बाटने लग जाते है।

कही पर भी बीजेपी अपने मेनिफेस्टो जिसे वो खुद विकास कहती है उसके लिए उर दूर तक फ़िक्रमंद नहीं उन्हें लगता है की जनता को हमारे सिवा और कोई विकल्प नहीं है तो कहा जायेगी हमें ही वोट देगी ना ?

पर अब पाटनगर भी नहीं बचा पा रही है यह आनेवाले दिन में बीजेपी को अपने घमंड को चकनाचूर करने के जनता के संकेत है। साथ ही ये भी जनता इंगित कर रही है कि विकास के बिना जनता जमीन चटा देगी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top