Top
Home > Archived > सौतेले माता-पिता अपने सौतेले बच्चे के पालन-पोषण के लिये बाध्य नहीं : हाइकोर्ट

सौतेले माता-पिता अपने सौतेले बच्चे के पालन-पोषण के लिये बाध्य नहीं : हाइकोर्ट

 Special News Coverage |  10 Oct 2015 7:16 AM GMT

court-hammer-1-1444318516


अहमदाबाद : गुजरात उच्च न्यायालय ने सौतेले माता-पिता, सौतेले बच्चे के पालन-पोषण पर अहम फैसला सुनाया है। उच्च न्यायालय ने व्यवस्था दी है कि सौतेले माता-पिता, सौतेले बच्चे का पालन-पोषण करने के लिए बाध्य नहीं हैं क्योंकि अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 125 के प्रावधानों के तहत केवल रक्त संबंधों वाले रिश्तेदारों के लिए ही यह अनिवार्य है।

न्यायमूर्ति जे बी पारदीवाला ने कहा कि कानून में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है जिसके तहत किसी व्यक्ति के लिए अपने जीवनसाथी के किसी दूसरे व्यक्ति से हुए सौतेले बच्चे का पालन-पोषण अनिवार्य हो। उन्होंने कहा कि सगे माता-पिता के न होने की स्थिति में ऐसे असहाय बच्चों की देखभाल के लिए एक कानून की जरूरत है।




अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 125 में वैध और अवैध बच्चे के पालन-पोषण का प्रावधान है लेकिन दूसरे के बच्चे के पालन-पोषण के बारे में कोई व्यवस्था नहीं है। उच्च न्यायालय ने एक महिला को अपनी सौतेली बेटी को हर महीने तीन हजार रूपये देने के निचली अदालत के फैसले को रद्द करते हुए यह आदेश दिया।


href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">Facebook पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें




style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">


स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it