Top
Home > Archived > गुजरात में अंतरराष्ट्रीय किडनीचोर गैंग का पर्दाफाश

गुजरात में अंतरराष्ट्रीय किडनीचोर गैंग का पर्दाफाश

 Special News Coverage |  18 Jan 2016 3:37 AM GMT

-kidney1

अहमदाबादः अहमदाबाद क्राइम ब्रांच ने गुजरात में अंतरराष्ट्रीय किडनी बिक्री गिरोह का पर्दाफाश कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इसमें दो आरोपी अहमदाबाद तथा एक मुंबई का रहनेवाला है। प्रारंभिक जांच से पता चला है कि किडनी के सौदागरों ने लोगों को विदेश भेजने के बहाने उनकी किडनी निकलवा दी।



इसे भी जानेकिडनी ट्रांसप्लांट से कैसे बचा जाएँ


मेडिकल चेकअप के बहाने निकलते थे किडनी
ये लोगों को मेडिकल चेकअप के बहाने श्रीलंका भेजते थे। वहां उनकी किडनी निकाल ली जाती थी। आरोपी एक किडनी का 27 से 30 लाख रुपए में सौदा करते थे। सूरत का रहने वाला है सरगना इस कांड का सरगना धवल दारवाला मूल रूप से सूरत का रहनेवाला है। वह वर्तमान में मुंबई में रह रहा था। अन्य दो आरोपी दिलीप चौहान अहमदाबाद के चांदोडिया और सुरेश प्रजापति गोता क्षेत्र में रहते हैं। तीनों फेसबुक द्वारा एक दूसरे के संपर्क में आए थे। धवल मुंबई में इमिग्रेशन का काम करता था।


30 लाख में बिकती थी
तीनों विदेश जाने वाले लोगों का ललचाकर मेडिकल चेकअप करवाने के लिए श्रीलंका भेजते थे। जहां उनकी किडनी निकाल ली जाती थी। उन्हें एक किडनी के 27-30 लाख रुपए मिलते थे। धवल को एक किडनी का 25 लाख रपए, जबकि अहमदाबाद में फाइनेंस का काम कर रहे सुरेश को 1.5 लाख रपए मिलते थे। क्राइम ब्रांच के एसीपी एनके पटेल ने बताया कि 8 जनवरी को आंध्रप्रदेश में किडनी निकालने की शिकायत दर्ज की गई है। इसके आधार पर इस रहस्य पर से पर्दा खुला है।


पूछताछ मे पता चला है कि इन आरोपियों ने अभी तक 30 युवकों की किडनी निकाली है। इसमें दो अहमदाबाद तथा आंध्रप्रदेश के रहनेवाले हैं। फिलहाल किडनी चोरी की शिकायत अहमदाबाद मे दर्ज नहीं की गई है। इसलिए तीनों आरोपियों को हैदराबाद पुलिस को सौंप दिया गया है। गुजरात में अंतरराष्ट्रीय किडनीचोर गैंग का पर्दाफाश किया है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it