Home > Archived > 11 वर्षीय आदिवासी बालिका ने अपनी जीभ काटकर शिव लिंग पर चढ़ा दी

11 वर्षीय आदिवासी बालिका ने अपनी जीभ काटकर शिव लिंग पर चढ़ा दी

 Special News Coverage |  20 April 2016 2:24 PM GMT

mahakal-bhog-photos

रायगढ़
छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में धार्मिक आस्था और अंधविश्वास के कारण 11 वर्षीय एक आदिवासी बालिका ने अपनी जीभ काटकर शिव लिंग पर चढ़ा दी।

रायगढ़ जिले के अनुविभागीय दंडाधिकारी प्रकाश सर्वे ने आज यहां बताया कि जिला मुख्यालय से लगे सागीतराई गांव में बालिका चमेली सिदार ने धार्मिक आस्था और अंधविश्वास के कारण भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए अपनी जीभ काटकर शिवलिंग पर चढ़ा दी।

सर्वे ने बताया कि मामला धार्मिक आस्था से जुड़े होने के कारण ग्रामीणों ने बालिका को उपचार के लिए अस्पताल ले जाने से मना कर दिया है। जिला प्रशासन द्वारा बालिका के उपचार के लिए मौके पर ही चिकित्सक की व्यवस्था की गई है।


अधिकारी ने बताया कि रायगढ़ जिला मुख्यालय से लगभग तीन किलोमीटर दूर सागीतराई निवासी चमेली भगवान शिव की भक्त है। श्निवार को वह करीब के शिव मंदिर गई और अपनी जीभ काटकर शिवलिंग में चढ़ा दी। इस दौरान चमेली बेहोश हो गई। देर तक जब वह घर नहीं लौटी तब उसके परिजनों ने उसकी खोज शुरू की।

उन्होंने बताया कि चमेली पिछले पांच दिनों से मंदिर में बैठी है तथा वह आस्था का केंद्र बन गई है। मंदिर में भीड़ लगने के बाद गांव के सरपंच गोपाल ने इसकी जानकारी पुलिस को दे दी है। ग्रामीणों के अनुसार इस शिव मंदिर में पूर्व में भी तीन युवतियों ने अपनी जीभ काटकर शिव लिंग पर चढ़ाई है। बिना उपचार के ठीक होने के कारण ग्रामीण इन घटनाओं को दैवीय चमत्कार मान रहे हैं।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top