Top
Home > Archived > फ्लाईओवर हादसा बिल्डर ने कहा, ‘प्रभु लीला’

फ्लाईओवर हादसा बिल्डर ने कहा, ‘प्रभु लीला’

 Special News Coverage |  31 March 2016 1:39 PM GMT

फ्लाईओवर हादसा बिल्डर ने कहा, ‘प्रभु लीला’
कोलकाता में हुए फ्लाईओवर हादसे के बाद इसकी निर्माता कंपनी के अधिकारी का बयान सामने आया है। इस फ्लाईओवर को इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी आईवीआरसीएल (IVRCL) है। आईवीआरसीएल के अधिकारी केपी राव ने इसे ‘ऐक्ट ऑफ गॉड’ (भगवान की लीला) कहा है…कोलकाता में हुए फ्लाईओवर हादसे के बाद इसकी निर्माता कंपनी के अधिकारी का बयान सामने आया है। इस फ्लाईओवर को इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी आईवीआरसीएल (IVRCL) है। आईवीआरसीएल के अधिकारी केपी राव ने इसे 'ऐक्ट ऑफ गॉड’ (भगवान की लीला) कहा है


उत्तर कोलकाता की व्यस्त मुख्य सड़क पर आज एक निर्माणाधीन फ्लाईओवर गिर जाने से कम से कम 17 लोगों की मौत हो गयी, जबकि उसके मलबे में अनेक लोगों के फंसे होने की आशंका है। इस दुर्घटना में 17 लोग की मृत्यु हो गई हैं, जबकि अनेक लोग घायल हुये हैं। दुर्घटना में मरने वालों की संख्या बढ़ने की भी आशंका है। फ्लाईओवर के मलबे में दबे अनेक घायल लोगों को बचाया गया है। घायलों को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कोलकाता मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल की अधीक्षक शिखा बनर्जी ने कहा, ‘यहां दो व्यक्तियों को मृत लाया गया था, जबकि दो व्यक्तियों की हालत गंभीर बनी हुयी है।’ उन्होंने बताया कि अस्पताल में अनेक घायल व्यक्तियों को अभी भी लाया जा रहा है।

चुनाव प्रचार के सिलसिले में पश्चिमी मिदनापुर जिले के दौरे पर गयी राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी यह खबर सुनकर कोलकाता लौट आयी हैं। उन्होंने घटनास्थल का मुआयना किया है और पुलिसकर्मियों, अग्निशमन और आपदा प्रबंधन दल के अधिकारियों को बचाव एवं राहत कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होगी। घायलों को हरसंभव मदद मुहैया कराई जाएगी।

फ्लाईओवर के मलबे के नीचे बहुत से यात्री, वाहन, बस आदि फंसे हुये हैं। मलबे में फंसे लोगों को बाहर निकालने का काम किया जा रहा है। मलबा हटाने और घायलों को बाहर निकालने के लिए बड़ी बड़ी क्रेन मशीने और अन्य बचाव वाहन लगाये गये हैं। मलबे में दबे वाहनों, कंक्रीट और लोहे के भारी गार्डर के नीचे कम से कम पांच व्यक्ति फंसे हुये देखे गये हैं। यह दुर्घटना आज दोपहर बड़ा बाजार के करीब रवीन्द्र सरणी-के के टैगोर स्ट्रीट पर हुयी। यह एक व्यस्त बाजार और शहर के सबसे घने इलाकों में से एक है। फ्लाईओवर के नीचे पार्किंग भी की जाती थी। इसके नीचे अनेक फेरीवाले भी अपनी दुकानें लगाते थे। बचाव एवं राहत कार्य के लिए एनडीआरएफ कर्मियों भी घटनास्थल पर पहुंच गये हैं।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it