Top
Begin typing your search...

बाल आग्रह पर कार्य कराया पीएम मोदी ने प्रारम्भ!

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
nayan
लखनऊ
उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में रहने वाले एक ग्यारह साल के बच्चे की दर्द भरी कहानी सुनकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसके लिए स्कूल जाने का रास्ता बनाये जाने के आदेश रेलमंत्री सुरेश प्रभु को दिए हैं। बताया जाता है कि उन्नाव में रहने वाले नयन सिन्हा नाम के बच्चे ने पीएम को एक चिट्ठी लिखकर उनसे स्कूल जाने के लिए रास्ता बनाये जाने का अनुरोध किया था।

नन्हें बच्चों के लिए बनेगा रास्ता

ग्यारह साल के इस बच्चे की चिट्ठी पढ़कर पीएम हैरान हो गए और उन्होंने इस बच्चे की परेशानी का फौरी तोर पर निस्तारण करने के आदेश रेल मंत्री सुरेश प्रभु को दिए। बताया जाता है कि नयन ने पीएम को अपनी चिट्ठी में लिखकर बताया था कि तक़रीबन 200 ऐसे बच्चे है जिन्हें रोजाना रेलवे क्रासिंग पर करके स्कूल जाना पड़ता है। इसको लेकर उनके माँ-बाप चिंतित रहते है। बस फिर क्या था? नन्हें-मुन्ने बच्चों की समस्या के निस्तारण के लिए उनके स्कूल जाने का रास्ता बनाये जाने के आदेश पीएम ने रेलमंत्री को दिए और रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने अपने मातहत अधिकारीयों को।

क्या थी परेशानी
इसके बाद तो मंडल रेल अधीक्षक समेत समस्त अधिकारी हरकत में आ गए. इतना ही नहीं आनन-फानन में रेल विभाग में हड़कंप मच गया. इस बाबत वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक (उत्तर रेलवे) एके सिन्हा का कहना है कि नई रेल नीति के तहत रेलवे क्रॉसिंग या ऊपरी पुल का निर्माण तभी किया जा सकता है जब राज्य सरकार साइट का आंकलन करने के बाद स्वीकृत के लिए रेल मंत्रालय से अनुरोध करे। लेकिन आवश्यकता के मुताबिक राज्य सरकार तय करती है।

चिट्ठी जरूर रंग लाएगी
उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के चंद्रशेखर आजाद इंटर कॉलेज कि सातवीं कक्षा में पढ़ने वाले नयन को इस बात से अवगत करा दिया गया है। बताया जाता है कि डीआरएम जल्दी ही पीएमओ कार्यालय को इस बात से अवगत करा देंगें। ताकि बच्चों के स्कूल जाने के लिए रास्ता बन सके। पिछले साल सितंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नयन ने पत्र लिखा था। जिसमे उनसे यह गुजारिश की गयी थी कि रेलवे क्रासिंग की वजह से बच्चों को लम्बी दुरी तय करनी पड़ती है। उनके माता-पिता ने रेलवे क्रासिंग पर करने की इजाजत नहीं दे राखी है। जिसके कारन उसे स्कूल जाने के लिए अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ती है। फ़िलहाल नयन के पिता आशुतोष का कहना है कि उनके बेटे कि चिट्ठी जरूर रंग लाएगी।
साभार इंडिया संबाद
Special News Coverage
Next Story
Share it