Top
Breaking News
Home > Archived > नीतीश ने कहा न पीएंगे, न पीने देंगे

नीतीश ने कहा न पीएंगे, न पीने देंगे

 Special News Coverage |  31 March 2016 6:30 AM GMT

नीतीश ने कहा न पीएंगे, न पीने देंगे
पटना: बिहार विधानमंडल ने पहली अप्रैल से सूबे में शराबबंदी के लिए बिहार उत्पाद विधेयक-2016 को बुधवार को सर्वसम्मति से मंजूरी दे दी। इससे संबंधित मूल अधिनियम 1915 का था। विधानसभा में अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में पक्ष-विपक्ष के सभी विधायकों ने एक स्वर से शराब नहीं पीने का संकल्प लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि न खुद पीएंगे, न ही किसी को पीने देंगे। विधानसभा उस समय एेतिहासिक क्षण का गवाह बन गई, जब अध्यक्ष और मुख्यमंत्री सहित सभी सदस्यों ने खड़े होकर शराबबंदी की शपथ ली। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे खुद शराब नहीं पीते हैं। जनप्रतिनिधियों से भी अपेक्षा करते हैं कि सामाजिक जिम्मेदारी के तहत वे इससे दूर रहें।


शराबबंदी को चरणबद्ध तरीके से पूरे राज्य में लागू करने की प्रतिबद्धता जताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को पूरी तरह शराब मुक्त करेंगे। यह न समझा जाए कि शहरों में पीने की छूट होगी। हम चरणबद्ध तरीके से पूर्ण शराबबंदी की ओर बढ़ रहे हैं। पहले देसी, फिर विदेशी। अभी गांवों पर फोकस है, फिर शहरों से भी शराब का सफाया हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कड़े कानून के जरिए शराब के अवैध धंधे पर पूरी तरह से रोक लगेगी। अवैध शराब के व्यापार-निर्माण की इजाजत नहीं होगी।

इसके पहले विधानसभा अध्यक्ष ने सभी सदस्यों से नहीं पीने के लिए सदन में ही संकल्प लेने का आग्र्रह किया। शराब से दूर रहने वाले सदस्यों की सराहना करते हुए उन्होंने अन्य सदस्यों से भी शराब छोडऩे का आग्रह किया। आम जनता से पहले जन-प्रतिनिधियों को सदाचरण की सलाह देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून बनाने के साथ हमें खुद भी उस पर अमल करना चाहिए। आचरण से आदर्श प्रस्तुत करने की कोशिश करनी चाहिए।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it