Top
Home > Archived > मीट प्रोसेसिंग यूनिट के लिए भाजपा MLA संगीत सोम ने खरीदी थी जमीन

मीट प्रोसेसिंग यूनिट के लिए भाजपा MLA संगीत सोम ने खरीदी थी जमीन

 Special News Coverage |  9 Oct 2015 3:49 AM GMT

21_som_jpg_1592194g

नोएडा: एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बीजेपी लीडर संगीत सोम और दो अन्य लोगों ने अलीगढ़ में साल 2009 में मीट प्रोसेसिंग यूनिट के लिए जमीन खरीदी थी। बता दें कि संगीत सोम वही विधायक हैं जो दादरी मामले में गिरफ्तार आरोपियों के परिवार की मदद को आगे आए हैं। उन्होंने अखलाक के परिवार को गाय काटने वाला करार दिया था। बता दें कि बीते 28 सितंबर को यूपी के दादरी में बीफ खाने की अफवाह फैलने के बाद मोहम्मद अखलाक की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। उनका बेटा दानिश बुरी तरह घायल हो गया था। इससे पहले, गांव के मंदिर से इस बात का एलान किया गया था कि अखलाक के परिवार ने घर में बीफ स्टोर करके रखा है।




अखबार ने दावा किया है कि मीट फैक्टरी के लिए जमीन की खरीद से जुड़े डॉक्युमेंट्स उसके पास हैं। डॉक्युमेंट्स के मुताबिक, अल दुआ फूड प्रोसेसिंग प्राइवेट लिमिटेड के तीन डायरेक्टर्स में संगीत सोम भी हैं। बाकी दो के नाम मोइनुद्दीन कुरैशी और योगेश रावत है। अखबार से बातचीत में सोम ने कबूल किया कि कुछ साल पहले उन्होंने जमीन खरीदी थी, लेकिन उन्होंने इस बात की जानकारी नहीं थी कि उन्हें कंपनी का डायरेक्टर बना दिया गया। मीट यूनिट की वेबसाइट के मुताबिक, यह हलाल मीट के प्रोडक्शन की लीडिंग यूनिट है, जो सबसे बेहतर क्वॉलिटी के भैंसे, भेड़ और बकरे का मीट का प्रॉडक्शन करती है।


style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">




क्या कहना है बीजेपी एमएलए का

सोम ने कहा, ''मैंने जमीन खरीदी थी, जो कुछ महीने बाद अल दुआ फूड प्रोसेसिंग प्राइवेट लिमिटेड को कुछ महीनों बाद बेच दी गई।'' सोम के मुताबिक, जमीन खरीदने का यह मतलब नहीं कि वह मीट फैक्टरी एस्टैब्लिश करने में शामिल थे। सोम ने दावा किया कि वे हिंदुत्ववादी विचारधारा के हैं, इसलिए वे ऐसा कोई काम नहीं कर सकते, जो उनके धर्म के खिलाफ हो। उन्होंने यह भी दावा किया कि अगर आरोप सही साबित हुए तो वे राजनीति छोड़ देंगे।


सोम ने अपने खिलाफ चुनाव लड़ने वाले समाजवादी पार्टी के नेता अतुल प्रधान पर निशाना साधते हुए कहा, ''राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने ऐसा ही विवाद खड़ा कर दिया था ताकि मेरी छवि खराब हो।'' सोम के मुताबिक, मामले की जांच किए जाने पर जिला प्रशासन को उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला। बता दें कि संगीत सोम और विवादों का पुराना नाता है। वे मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपियों में से एक हैं।

साभार दैनिक भास्कर



style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it