Top
Home > Archived > आतंकबाद के खिलाफः 70 हजार धर्मगुरुओं ने किया फतवा जारी, आतंकी संगठन इस्‍लामिक नहीं

आतंकबाद के खिलाफः 70 हजार धर्मगुरुओं ने किया फतवा जारी, आतंकी संगठन इस्‍लामिक नहीं

 Special News Coverage |  9 Dec 2015 10:51 AM GMT

muslim
बरेलीः दुनिया में बढ़ते आतंकवाद के खिलाफ अब खुलकर मुस्लिम धर्मगुरुओं ने विरोध जताना शुरू कर दिया है। यूपी के बरेली में उर्स-ए-रिजवी में शिरकत करने पहुंचे करीब 70 हजार धर्मगुरुओं ने आतंकियों और आतंकी संगठन के खिलाफ फतवा जारी किया है। धर्मगुरुओं ने बताया कि ये आतंकी संगठन इस्‍लामिक नहीं हैं और उसमें शामिल लोग मुसलमान नहीं हो सकते हैं। इन संगठनों में इस्‍लामिक स्‍टेट (आईएस), तालिबान और अल कायदा शामिल है।




धर्मगुरुओं की इस पहल को उर्स-ए-रिजवी में शिरकत करने पहुंचे 15 लाख लोगों ने समर्थन किया। इन लोगों ने बकायदा कागज पर हस्‍ताक्षर आतंकवाद के खिलाफ फतवा का समर्थन किया।



टाइम्‍स ऑफ इंडिया के मुताबिक, मुफ्ती मोहम्‍मद सलीम नूरी ने बताया कि दरगाह आला हजरत में वार्षिक उर्स के दौरान मुसलमानों ने आतंकवाद के खिलाफ कड़ा विरोध जताया। इसी दौरान आतंकवाद को नेस्‍तनाबूद करने के लिए फतवा जारी करने का फैसला किया गया। दुनियाभर से आए 70 हजार धर्मगुरुओं ने फतवा पर अपनी रजामंदी जाहिर की।


आतंकवाद के खिलाफ 70 हजार मुस्लिम धर्मगुरुओं का फतवा
मुफ्ती मोहम्‍मद सलीम नूरी ने मीडिया से भी अपील करते हुए कहा, इन आतंकी संगठनों को वे इस्‍लामिक संगठन नाम देने से बचें। वैसे भी कुरान में लिखा है कि किसी भी निर्दोष की हत्‍या पूरी मानवता की हत्‍या के समान है।

मोहम्‍मद फरोग उल कादिरी ने कहा कि मैं पेरिस में आतंकी हमले की बर्बरता की कड़ी भर्त्‍सना करता हूं। मेरी सहानूभूति इस हमले में मारे गए परिजनों के साथ है। मैं पूरी दुनिया से अपील करता हूं कि वे आतंकी संगठनों के खिलाफ पाबंदी सहित कड़े कदम उठाएं।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it