Top
Home > Archived > बिहारः सीवान के बहुचर्चित तेजाब हत्याकांड में पूर्व सांसद मो शहाबुद्दीन दोषी करार

बिहारः सीवान के बहुचर्चित तेजाब हत्याकांड में पूर्व सांसद मो शहाबुद्दीन दोषी करार

 Special News Coverage |  9 Dec 2015 8:54 AM GMT


ex mp sabuddin

सीवान: बिहार के बहुचर्चित तेजाब हत्याकांड मामले में बुधवार को कोर्ट ने राजद के पूर्व सांसद मो शहाबुद्दीन को दोषी करार दिया है। मो शहाबुद्दीन को 11 दिसंबर को सजा सुनाई जाएगी। पूर्व सांसद को भादवि की धारा 302, 201, 364 ए, 120 बी के तहत दोषी पाया गया है। पिछले 11 वर्षों तक चली कोर्ट की कार्रवाई के बाद आज इस मामले पर आने वाले फैसले का पीड़ित परिवार को बेसब्री से इंतजार था। कलावती देवी के बयान पर उनके बेटे सतीश कुमार उर्फ सोनू व गिरीश कुमार का अपहरण कर हत्या कर देने का मुकदमा दर्ज हुआ था॥


क्या है तेजाब हत्याकांड
मुफस्सिल थाना कांड संख्या 131/2004 भादवि की धारा 341, 323, 380, 435, 364/34 के अंतर्गत नगर थाने के यादव मार्केट निवासी चंद्रकेश्वर प्रसाद की पत्नी कलावती देवी के बयान पर उसके बेटे सतीश कुमार उर्फ सोनू (18) व गिरीश कुमार उर्फ निक्कु (24)का अपहरण कर हत्या कर देने का मुकदमा दर्ज हुआ था, जिसमें राजकुमार साह, शेख असलम, मोनू मियां उर्फ सोनू उर्फ आरिफ हुसैन नामजद हैं।

मुकदमे के अनुसंधान के दौरान तत्कालीन सांसद मो शहाबुद्दीन पर घटना का षड़यंत्र रचने का मामला सामने आया. इस मुकदमे में विशेष कोर्ट ने 4 जून, 2010 को भादवि की धारा 120 (बी), 364 (ए) में षड़यंत्र व अपहरण का आरोप गठित किया. बाद में उच्च न्यायालय के आदेश पर कोर्ट ने एक मई ,2014 को भादवि की धारा 302, 201, 120 बी के अंतर्गत आरोप गठित किया, जिसके बाद पुन: गवाही हुई। न्यायिक प्रक्रिया के दौरान ही मृतक के भाई व घटना के चश्मदीद गवाह राजीव रोशन की हत्या 16 जून, 2014 को हो गयी। स्पीडी ट्रायल के तहत मंडल कारा में ही शुरू हुई सुनवाई हाइकोर्ट के आदेश पर मुकदमे का जल्द निस्तारण के लिए मंडल कारा सीवान में ही विशेष अदालत का गठन कर सुनवाई शुरू हुई।

जिसमें आरोप पत्र अनुसंधानकर्ता द्वारा दाखिल किये जाने के बाद आरोप गठन तथा इसके पश्चात गवाही व सुनवाई के बाद पिछले एक सप्ताह पूर्व कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखते हुए नौ दिसंबर दिन बुधवार को निर्णय सुनाने का आदेश दिया है।

शहाबुद्दीन को इन मामलों में हो चुकी है सजा

- छोटेलाल अपहरण कांड में उम्र कैद

- आर्म्स एक्ट के मामले में दस वर्षों की सजा

- एसपी सिंघल पर जानलेवा हमला के मामले में दस वर्षों की सजा

- चोरी की मोटरसाइकिल बरामदगी में तीन वर्षों की सजा

- भाकपा माले कार्यालय पर गोली चलाने के आरोप में दो साल की सजा

- राजनारायण प्रकरण में दो वर्षों की सजा.

इन मामलों में हो चुके हैं बरी

- डीएवी कॉलेज में परीक्षा के दौरान बमबारी की घटना

- दारोगा संदेश बैठा से मारपीट के मामले में

- अन्य दो मामलों में

दो मामलों में अभी लंबित है पूर्व सांसद की जमानत

- राजीव रोशन हत्याकांड में जमानत का आवेदन उच्च न्यायालय में लंबित है

- इसके अलावा तेजाब हत्याकांड में सुप्रीम कोर्ट से जमानत खारिज हो चुकी है

अन्य 35 मामलों में पूर्व सांसद को जमानत मिल चुकी है। जानकारों का कहना है कि तेजाब हत्याकांड में बरी होने व राजीव रोशन हत्याकांड में उच्च न्यायालय से जमानत मिलने की स्थिति में पूर्व सांसद जेल से बाहर आ सकते हैं।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it