Top
Home > Archived > देश में मिसाल बनेगी डॉयल 100 परियोजना : CM अखिलेश

देश में मिसाल बनेगी 'डॉयल 100' परियोजना : CM अखिलेश

 Special News Coverage |  20 Dec 2015 9:46 AM GMT

CM Akhilesh Yadav

लखनऊ : यूपी वासियों को इमरजेंसी में बेहतर सेवा देने का अखिलेश सरकार का सपना साकार होने जा रहा है। शनिवार को सीएम ने राजधानी के गोमतीनगर एक्सटेंशन में डायल 100 कंट्रोल रूम की आधारशिला रखी। 2 हजार 300 करोड़ से भी ज्यादा लागत वाले इस प्रोजेक्ट के लागू हो जाने के बाद प्रदेश भर के ग्रामीण हो शहरी क्षेत्र, सभी जगह 10 मिनट के अंदर पुलिस पहुंचेगी। इससे एक तरफ जहां अपराध को रोका जा सकेगा. वहीं, दूसरी तरफ पीड़ितों की आपात स्थिति में बेहतर मदद की जा सकेगी।



मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश पुलिस राज्यव्यापी डायल-100 परियोजना घटनाओं में पुलिस के रिस्पाॅन्स टाइम को कम करने के लिए शुरू की जा रही है। दुनिया में कई अन्य जगहों पर ऐसी व्यवस्था है, लेकिन कहीं भी यह व्यवस्था इतने बड़े पैमाने पर नहीं है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि देश में यह परियोजना एक उदाहरण के तौर पर देखी जाएगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में डायल-100 परियोजना को लागू करने के लिए देश-विदेश में संचालित ऐसी परियोजनाओं के अनुभवों का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि डायल-100 परियोजना संचालित होने से प्रदेश की जनता में सुरक्षा को लेकर भरोसा बढ़ेगा।

अखिलेश ने विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि हमारी सरकार ने प्रदेश के विकास के लिए कई कदम उठाए। लेकिन हमारे अच्छे कामों की भी सिर्फ आलोचना ही हुई। जनहित की कई योजनाएं गिनाते हुए उन्होंने कहा कि अच्छे काम के बाद भी कुछ लोग खराब धारणा बनाते हैं। राज्य की छवि खराब करते हैं। केंद्र सरकार का नाम लिए बिना उन्होंने बजट कटौती का मुद्दा उठाया।

अखिलेश ने कहा कि पुलिस पर बड़ी जिम्मेदारी है। साथ ही, चुनौतियां भी बड़ी हैं। क्योंकि आधुनिक तकनीक और संचार साधनों के चलते अपराध के तरीके भी बदल गए हैं। इसका मुकाबला अत्याधुनिक तकनीक और संसाधनों को अपनाकर ही किया जा सकता है। समाज में सभी लोग चाहते हैं कि अपराध और बुरा काम करने वाले लोग जेल जाएं, इसके लिए पुलिस को उपलब्ध संसाधनों और सुविधाओं पर ध्यान देना होगा।

समाजवादी सरकार ने राज्य में पुलिस व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए गम्भीर प्रयास किए हैं। पुलिस को अत्याधुनिक संसाधनों से युक्त किया गया है। पुलिस कर्मियों की बड़े पैमाने पर प्रोन्नतियां की गई हैं। आवश्यकतानुरूप और शीघ्रता से पुलिस बल की भर्ती के लिए पहले की जटिल भर्ती प्रक्रिया को सरल बनाया गया है। अब पुलिस की भर्ती 10वीं और 12वीं के अंकों और फिजिकल परीक्षा के आधार पर होगी। उन्होंने कहा कि मुश्किल भर्ती प्रक्रिया के बजाय पुलिस को अच्छी ट्रेनिंग दिए जाने की जरूरत है। क्योंकि अच्छी ट्रेनिंग से ही अच्छा काम करने की क्षमता पैदा होती है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it