Home > Archived > एचओडी की नीच हरकत से तंग आकर ब्राह्मण छात्र ने कर ली खुदकुशी

एचओडी की नीच हरकत से तंग आकर ब्राह्मण छात्र ने कर ली खुदकुशी

 Special News Coverage |  26 Feb 2016 2:53 AM GMT


suicide-
लखनऊ
एचओडी ने बार-बार घूस मांगकर इतना प्रताड़ित किया कि लखनऊ के बीएन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (बीएनसीईटी) में बीटेक फाइनल ईयर के छात्र ने अपनी जान दे दी।

खुदकुशी करने से पहले उसने चार पन्ने का सुसाइड नोट लिखा, जिसे पढ़कर मोबाइल फोन में रिकॉर्ड भी किया। पुलिस ने छात्र के पिता की तहरीर पर एचओडी के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

इंस्पेक्टर मड़ियांव संतोष सिंह ने बताया कि आजमगढ़ के सरायदेव गांव के किसान ओम प्रकाश मिश्रा का सबसे छोटा बेटा लवकुश मिश्रा (23) मड़ियांव के श्रीनगर मोहल्ले में एसके डंगवाल के मकान में किराए पर रहता था।


बीएनसीईटी में बीटेक के एचओडी ने दीपक असरानी ने दूसरे सेमेस्टर से ही उसे तंग करना शुरू कर दिया। कॉलेज जाने के बावजूद रजिस्टर में उसकी अनुपस्थिति दर्ज करता रहा। फिर कई बार पैसे भी मांगे। आखिर में उसे पेपर देने से रोक दिया गया तो बुधवार को उसने कमरे में पंखे से लटककर खुदकुशी कर ली।

मकान मालिक दिल्ली गए हुए थे। रात करीब साढ़े 10 बजे पड़ोसी सत्य प्रकाश श्रीवास्तव उससे मिलने गए तो कमरे में उसे फंदे से लटके देखा और पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने कमरे से सुसाइड नोट और उसका मोबाइल फोन जब्त कर लिया। इसके बाद उसके परिवारवालों को इसकी सूचना दी गई। लवकुश के पिता ओम प्रकाश मिश्रा ने मड़ियांव थाने में एचओडी के खिलाफ केस दर्ज कराया।

लवकुश के भाई रविकेश ने बताया कि उसका भाई कॉलेज में बात-बात पर घूस मांगने की शिकायत करता था। एसओडी दीपक असनानी ने उसकी उपस्थिति दर्ज करने के लिए और यूपीटीयू में उसका एनरोलमेंट भेजने के लिए 20 हजार रुपये घूस मांगी।

लवकुश ने किसी तरह रुपये इंतजाम करके उसे दे भी दिये। इसके बावजूद एचओडी उसे प्रताड़ित करता रहा और 10 हजार रुपये और मांगे। भाई ने आरोप लगाया कि लवकुश ने मामले की शिकायत डायरेक्टर से की थी। डायरेक्टर ने भी एचओडी का पक्ष लिया जिससे लवकुश का मनोबल टूट गया था।

जांच के निर्देश

बीएन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के प्रबंधक आरपी पांडेय ने कहा ‘एचओडी दीपक असरानी की भूमिका के बारे में जांच के निर्देश दिए हैं। रिकॉर्ड के मुताबिक, लवकुश एक साल से अनुपस्थित था। यूपीटीयू से उसका एनरोलमेंट भी नहीं हुआ है। ऐसे में वह परीक्षा में शामिल ही नहीं हो सकता था।’
लवकुश के भाई रविकेश ने आरोप लगाया है कि बीएनसीईटी में छात्रों को परेशान करके रुपये वसूले जाते हैं। लवकुश ने उसे कई बार फोन करके इस बारे में बताया। कहा था कि जो छात्र वहां के टीचरों और एचओडी को घूस नहीं देता है उसे जानबूझकर परेशान किया जाता है। उसके पास घूस देने के लिए रुपये नहीं हैं।

इसलिए उसे प्रताड़ित होना पड़ रहा है। तब मैंने डायरेक्टर से इसकी शिकायत करने का सुझाव दिया था। लवकुश ने डायरेक्टर से शिकायत की, लेकिन उन्होंने डांटकर भगा दिया।

भाई ने भी की खुदकुशी की कोशिश
लवकुश की मौत से भाई रविकेश इतना दुखी था कि उसने मड़ियांव थाने में फांसी लगाने की कोशिश की। किसी तरह उसे रोका गया तो वह सीतापुर हाईवे की तरफ दौड़ पड़ा और एक ट्रक के आगे कूदकर जान देने की कोशिश की। पिता और अन्य रिश्तेदारों ने उसे पकड़ा और शांत कराया।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top