Home > Archived > शनि शिगणापुर मंदिर पहुंची भूमाता ब्रिगेड को लोगों ने रोका

शनि शिगणापुर मंदिर पहुंची भूमाता ब्रिगेड को लोगों ने रोका

 Special News Coverage |  2 April 2016 12:20 PM GMT

शनि शिगणापुर मंदिर पहुंची भूमाता ब्रिगेड को लोगों ने रोका
महाराष्ट्र: बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश के बावजूद शिगणापुर मंदिर में घूसने से पुलिस ने देसाई समेत दूसरी महिला कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया है। देसाई ने प्रवेश न दिए जाने को अदालत का अपमान बताया। कोर्ट ने आदेश दिया था कि अगर कोई महिला मंदिर में प्रवेश करना चाहती है तो पुलिस को उन्हें सुरक्षा देनी चाहिए और मंदिर में जाने दिया जाना चाहिए। यहां स्थानीय लोग, जिनमें महिलाएं भी शामिल हैं हमारे साथ धक्का मुक्की कर रही है।


भूमता ब्रिगेड की महिलाओं ने जैसे ही मंदिर में प्रवेश की कोशिश की उन्हें ग़ुस्साई स्थानीय महिलाओं और शनिश्वर देवास्थान ट्रस्ट के लोगों ने रोक दिया। बॉम्बे हाई कोर्ट ने शुक्रवार को फ़ैसला दिया था कि किसी भी धार्मिक स्थान में पूजा अर्चना करने का हक़ महिलाओं के मूलभूत अधिकार में शामिल है। कोर्ट ने राज्य सरकार को मंदिर में प्रवेश करने के मामले में क़ानून को कड़ाई से लागू करने के आदेश दिए थे।

देसाई राज्य सरकार ने कोर्ट में कहा था कि महिलाओं को सुरक्षा दी जाएगी। तो क्या मुख्यमंत्री झूठ बोल रहे थे? हम मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज़ करेंगे और चबूतरे पर दर्शन लिए बग़ैर पीछे नहीं हटेंगे। महाराष्ट्र सरकार ने कहा था कि वे कोर्ट के आदेश का पालन करेगी और अगर औरतों को मंदिर में प्रवेश से रोका गया तो क़ानून के मुताबिक़ उसके ख़िलाफ़़ कार्रवाई होगी।

इससे पहले भी तृप्ति देसाई ने शनि शिगणापुर मंदिर में प्रवेश करने की कोशिश की थी लेकिन उन्हें पुलिस और स्थानीय लोगों ने रोक दिया था। 29 नवंबर को एक महिला ने अहमदनगर ज़िले के शनि शिगणापुर मंदिर में चबूतरे पर चढ़कर शिला पर तेल चढ़ा दिया था। इसके बाद पुजारियों ने कहा कि शनि देव अपवित्र हो गए हैं और उनका दूध से अभिषेक किया जाएगा।

शिगणापुर में शनि शिला एक चबूतरे पर है और इस चबूतरे पर महिलाओं को जाने की अनुमति नहीं है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top