Home > Archived > बिहार : भागलपुर से पाकिस्तानी गिरोह के दो एजेंट गिरफ्तार

बिहार : भागलपुर से पाकिस्तानी गिरोह के दो एजेंट गिरफ्तार

 Special News Coverage |  20 April 2016 8:31 AM GMT

बिहार : भागलपुर से पाकिस्तानी गिरोह के दो एजेंट गिरफ्तार

बिहार: भागलपुर पुलिस और एटीएस की टीम ने मंगलवार को संयुक्त कार्रवाई कर पाकिस्तान के ठग गिरोह से संपर्क रखने वाले दो भाइयों को गिरफ्तार किया है। पाकिस्तान में बैठे साइबर के बड़े अपराधियों और आईएसआई के गुर्गे भारत में ठगी के लिए प्लान तैयार करते थे। पुलिस का कहना है कि दोनों अंतर्राष्ट्रीय साइबर क्राइम गिरोह से जुड़े हैं और ठगी के रुपये पाकिस्तान में बैठे आकाओं के खातों में ट्रांसफर करते हैं। इसमें उन्हें 15 से 20 प्रतिशत कमीशन मिलता था।


एसएसपी मनोज कुमार ने मंगलवार शाम पत्रकारों को बताया कि सूचना के आधार पर दोनों आरोपियों को मंगलवार सुबह काजीचक स्थित एक्सिस बैंक की शाखा के पास से गिरफ्तार किया गया। इसी तरह के आरोप में जनवरी में भी भागलपुर में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इस गिरफ्तारी के बाद भागलपुर में ठगों का नेटवर्क ध्वस्त हो गया था। बलवंत और बलवीर को पाक ठगों ने हाल ही में बहाल किया था। दोनों से पाक ठगों ने कोई सिक्योरिटी मनी भी जमा नहीं कराई थी। क्योंकि भागलपुर में पुलिस की दबिश के बाद पाकिस्तानी ठगों को भारतीय एजेंट नहीं मिल रहे थे।

पकड़े गए बलवंत कुमार और बलवीर कुमार दोनों भाई हैं और बुढ़ीखार, झाझा के रहने वाले है। पुलिस ने दोनों के पास से उसके पास से 90 हजार रुपये और कई बैंकों के 12 एटीएम कार्ड, पाक ठगों के खाते में जमा की गई राशि की कई बैंक पर्चियां बरामद किया है। दोनों भाईयों के पास बरामद तीन मोबाइल में 24 ऐसे नंबर मिले हैं, जो पाकिस्तान के हैं।

जनवरी 2016 में आदमपुर के बैंक कॉलोनी निवासी गौरी देवी से पाकिस्तानी ठगों ने फोन कर सवा महीने के दौरान 1.57 लाख रुपए की ठगी कर लिया था। महिला के मोबाइल पर जिन नंबरों से फोन आया था, वह सारे नंबर पाकिस्तान के थे। घटना को लेकर महिला ने आदमपुर थाने में पाकिस्तानी मोबाइल नंबर के धारकों के खिलाफ केस दर्ज कराया है।मोजाहिदपुर पुलिस की जांच में आया था कि ठगी के पैसों की निकासी भारत-पाक बॉर्डर के पास अटारी के अंबिकापुर और कारगिल बाजार के दो बैंकों से हुई है। अटारी में यूको बैंक से पैसे निकाले गए थे, जबकि कारगिल बाजार में एसबीआई की शाखा से।

पूछताछ में गिरफ्तार दोनों आरोपियों ने बताया कि जिन खातों में ठगी के शिकार लोग पैसे जमा कराते हैं, वे खाते किसी फर्जी नाम-पता और आईडी पर खोला जाता है। कई बार ये ठग लोगों के एटीएम को उधार पर लेकर उसमें पैसे मंगवाते और तुरंत निकाल लेते हैं। इस एवज में एटीएम धारक को पैसे मिलता है। भागलपुर और लखीसराय के साइबर ठगों के मोबाइल में पाकिस्तान और सऊदी अरब के कई ठगों का मोबाइल नंबर कांटेक्ट लिस्ट में सेव है। कई पाकिस्तानी ठगों की प्रोफाइल फोटो भी लगी है।

पाकिस्तानी साइबर ठग भारतीयों के मोबाइल पर फोन कर लक्की नंबर, लॉटरी, ईनामी योजना, चेहरा पहचानों-इनाम पाओ आदि लुभावने स्कीमों की जानकारी देते हैं और उन्हें अपने जाल में फंसाते हैं। स्कीम का लाभ लेने के लिए पाक ठग रजिस्ट्रेशन आदि के नाम पर भारतीयों को कुछ पैसे बैंक में जमा करने को कहते हैं।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top