Top
Home > Archived > फर्जी गन्ना किसानों व भ्रष्ट अधिकारियों से परेशान गन्ना किसान

फर्जी गन्ना किसानों व भ्रष्ट अधिकारियों से परेशान गन्ना किसान

 Special News Coverage |  26 Dec 2015 12:13 PM GMT

0e905e71-9147-457f-a2a6-11a21e8d0c7a

बहराइच (अतुल पाण्डेय/ संजीव मिश्रा ): विकास खंड विशेश्वरगंज मे सिंभावली सुगर्स चिलवरिया द्वारा स्थापित किए गए गन्ना क्रय केन्द्रों पर किसानो से गन्ना उतरवाने के एवज मे मनमानी धन की वसूली की जा रही है। आज सुबह करीब 11 बजे गन्ना क्रय केंद्र पुरैना 19 पर किसानो का हाल जानने के लिए मीडिया के कुछ लोग पहुचे तो क्रय केंद्र का हाल कुछ यूं मिला किसान वसूली से परेशान दिखे। मीडिया कर्मियों को किसान कृष्ण कुमार शुक्ल पुत्र भुलई प्रसाद निवासी रोहनी भारी ने बताया की इस क्रय केंद्र पर गन्ना उतरवाने का कोई भी चार्ज निश्चित नहीं है। यहां मनमानी वसूली की जाती है 250रू से 300रु तक ले लिया जाता है। पास मे ही बैठे किसान मुन्ना लाल पाण्डेय ने बताया कि मेरे पिता जी रामा नन्द पाण्डेय ने पिछले सत्र मे ही मिल की सदस्यता ली थी लेकिन न पिछले साल गन्ने की पर्ची गन्ना माफियाओं के चलते मिल द्वारा दी गयी और न ही इस वर्ष कोई पर्ची आने की उम्मीद दिख रही है। क्योंकि मिल दलालो ने जी पी एस सर्वे तो किया था लेकिन उसे मिल मे फीड नहीं होने दिया है, वजह सर्वे के समय सर्वे कर रहे दलालो को किसान ने सुबिधा शुल्क नहीं दिया।



अतः पर्ची न आने से किसान अपना गन्ना दलालो बंशी लाल कांटा चैकीदार पुरैना व इनकी पत्नी राधा देवी जो क्षेत्र ककरा मोहम्मद पुर की डायरेक्टर है अपने पूरे परिवार के नाम से फर्जी खसरा खतौनी लगाकर कई वर्षों से पर्ची हासिल करके किसानो का शोषण करते आ रहे है।


वास्तविक गन्ना किसान इन्ही के माध्यम से कम रेट मे अपना गन्ना बेचने को मजबूर है। मुन्ना लाल पर्ची मिल द्वारा न बनाए जाने की शिकायत जरिये ई मेल मुख्य मंत्री उ०प्र० शासन व चेयरमैन सिंभावली सुगर्स से की है। इस बावत जिला गन्ना अधिकारी से फोन पर बात करने पर बताया कि मेरे संज्ञान मे नहीं है यह कहकर सोमवार को बात करने के लिए टाल दिया। ऐसे मे गन्ना आयुक्त से उक्त के संदर्भ मे 7081202101 पर बात करने का प्रयास किया गया लेकिन घंटी बजती रही फोन नहीं उठाया गया।


ऐसे मे एक बात अवश्य साफ होती नजर आ रही है कि मिल मे दलाल अवश्य ही सक्रिय है। देखने वाली बात यह है कि गन्ना किसानो की आवाज कब प्रशासन सुन सकेगी और कब इस समस्या का निवारण करेगी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it