Top
Home > Archived > 2017 का चुनाव बहुत दिलचस्प और कांटे का होगा मुकाबला ये तय

2017 का चुनाव बहुत दिलचस्प और कांटे का होगा मुकाबला ये तय

 Special News Coverage |  17 March 2016 5:27 AM GMT


UP Election
लखनऊ नवीन दुवे

क्या वर्तमान स्थिति में यूपी में भाजपा सरकार बना पायेगी ? प्रदेश संगठन कमजोर है !

कल जो गोपनीय रिपोर्ट सपा सरकार को मिली है। उसने सपा के थिंक टैंक की नींद उड़ाकर रख दी ह॥ सपा को 2017 के चुनाव में केवल 95 -110 सीट मिलती दिख रही हैं। जबकि बसपा को 170 -175 और भाजपा को 150 -160। ऐसे में भाजपा के लिए 74 अन्य सीटों का जुगाड़ बहुत मुश्किल हो सकता है। भाजपा की प्रदेश इकाई को जिस तरह का प्रदर्शन करना चाहिए था वैसा कर नहीं पा रही है, और इसी बजह से जीती हुयी बाज़ी भाजपा के हाथ से निकल सकती है।



बसपा ने पिछली सरकार में ब्राह्मणो पर डोरे डाले थे और वो सफल भी रही थी। लेकिन इस बार परिस्थितियां उलट हैं और शायद ही ब्राह्मण इस बार बसपा के साथ जाए क्योंकि काठ की हांडी एक ही बार चढ़ती है।

बीजेपी के साथ आये
प्रदेश में ब्राह्मण वोटों की अधिकता है और यदि ब्राह्मण वोट एकतरफा जाता है तो भाजपा को संजीवनी मिल सकती है। लेकिन इसके लिए भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व को उत्तर प्रदेश पर विशेष ध्यान देना होगा और पूरे संगठन को जल्दी ही बदलने की जरूरत है निष्क्रिय पदाधिकारियों को तत्काल हटाया जाना चाहिए। भाजपा यदि दलित वोटों लगाकर प्रदेश में काबिज़ होने का सपना देख रही है तो उसकी सबसे बड़ी और आत्मघाती भूल होगी ,क्योंकि भाजपा का परंपरागत वोट ब्राह्मण , ठाकुर , वैश्य , कायस्थ और लोधी है सिर्फ इसी समीकरण से भाजपा की नैय्या पार हो सकती है। हाँ हिंदूवादी दलित यादव और अन्य जातियां भी भाजपा को मजबूती दे सकती हैं।


सपा पास मुस्लिम और यादव वोटबैंक है और यदि सपा को मात्र पांच प्रतिशत वोट ब्राह्मण , ठाकुर , वैश्य कायस्थ का मिलाकर मिल जाता है तो भी उसकी स्थिति काफी मजबूत हो सकती है लेकिन जिस हिसाब से प्रदेश सरकार चल रही है उसमे ये बहुत दूर की कौड़ी साबित होगा। उधर कट्टरपंथी ओवैसी के चुनाव मैदान में आने से २-3 प्रतिशत मुस्लिम वोट भी सपा का खिसक सकता है।


बसपा के लिए एक ही रामबाण है की अगर वो आर्थिक आधार पर आरक्षण की बात को मुद्दा बनाकर उतरती है तो सारे गणित रखे रह जायेंगे और बसपा प्रदेश की सत्ता पर काबिज़ हो सकती है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it