Home > Archived > शराब के कारोबारी प्रदेश को कब तक लूटते रहेगें

शराब के कारोबारी प्रदेश को कब तक लूटते रहेगें

 Special News Coverage |  2 Feb 2016 1:00 AM GMT

drinkratlam

बरेली देश दीपक गंगवार

शराब के ठेकेदारो के हाथो की कठपुतली बनी नजर आ रही है उत्तर प्रदेश सरकार क्यो न करे उत्तर प्रदेश सरकार कठपुतली का काम क्योंकि शराब के कारोबारी पार्टी को हर कदम पर मदद करते है।

चलिऐ आये आपको रूबरू करायें शराब के कारोबार से जैसा कि शराब की भट्यिो पर शराब बेचने का लाईसेन्स होता है शराब पिलाने का नही। शराब की भट्यिो पर रसोई गैस सिलेण्डर से पकौड़ी अण्डे आदि की दुकाने चलाई जाती है।जोकि नियमानुसार गैर कानूनी है। एक और कारनामा शहर की कोतवाली क्षेत्र मे जंक्शन से चंद कदमो की दूरी पर माॅडल शाॅप पर छोटे छोटे बच्चे पैग बनाते नजर आते है। और सबसे अहम बात यहां 24 घण्टे शराब बिकती है।


एक स्टिंग आपरेशन के खुलासे से ज्ञात हुए कि नियमो के विरूद्व सैलरी पर भट्यिो पर शराब बेचने के लिए जो लोग लगाये जाते है उनको 2500 से 4000 रूपये प्रतिमाह सैलरी पर रखा जाता है।

• आठ घण्टे से ज्यादा लिया जाता है काम


जब कि नियमानुसार सरकारी रेटो से कम मजदूरी देना गैरकानूनी है। आठ घण्टे से ज्यादा काम लिया जाता है। यही बजह है एक स्टिंग मे भमौरा थाने के समाने शराब की दुकान पर काम करने वाले ने बताया भाई बेरोजगारी की मार है जो यह काम कर रहे है जोकि अपने ही देश के लोगो को लूटना पड़ता है।

• बताये आपको लूटने का तरीका सेल्समैन के आनुसार


प्रिन्ट रेटो से अधिक मूल्य पर बेच रहे है जो बोतल 77 रूपये प्रिन्ट रेट है उसके 80 रूपये लिये जाते है। खुलासे मे एक और बात समाने आई देशी शराब के ठेके पर इंग्लिश शराब व बीयर भी बिक रही है। सबसे खास बात यह है कि लाईसेन्स केवल देशी शराब बेचने का है। पुलिस की नाक नीचे गैर कानूनी तरीके से खुलेआम शराब की बिक्री की जा रही है, जिसकी विडियो सुरक्षित रखी है। इस पूरे खेल में जिम्मेदार विभाग के जिम्मेदार अधिकारियो से बात की गई तो वही पूराना धिसापीटा जबाब जांच करायी जायेगी।इस जबाब से साफ जाहिर हो रहा है। जिम्मेदार अधिकारी कही न कही उत्तर प्रदेश सरकार के कठपुतलियो में शामिल नजर आये।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top